म्यूरेट ऑफ पोटाश खाद को अधिक कीमत पर बेचने के कारण जिले में 2 फर्म के मालिकों के विरुद्ध हुई एफआईआर दर्ज

महावीर अग्रवाल
मंदसौर २१  अक्टूबर ;अभी तक; उर्वरक निरीक्षक विकास खण्ड मल्हारगढ जिला मन्दसौर श्री एसएस भदौरिया द्वारा बताया गया की कान्तीलाल कन्हैयालाल जैन बस स्टेण्ड नारायणगढ के प्रो. श्री राजेश जैन एवं नाथुलाल केसरीमल जैन के प्रो. श्री सतीश जैन निवासी नारायणगढ के विरुद्ध म्यूरेट ऑफ पोटाश खाद को निर्धारित मूल्य से अधिक मूल्य पर बेचने। फर्म पर बिल बुक, स्टॉक बुक का संधारण नहीं करने, खाद भण्डारण के संबंध मे पुष्टी कारक दस्तावेज प्रस्तुत नही करने पर उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 की धारा 3,5 सह पठित आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3.7 के अंतर्गत अपराध पंजीबद्ध किया गया है।
जिले में पर्याप्त खाद उपलब्ध है। किसानों को किसी प्रकार से घबराने की कोई आवश्यकता नहीं। अगर कोई फर्म या खाद व्यापारी अगर दाम से अधिक मूल्य पर खाद बेचता है, तो उसकी तुरंत शिकायत करें। शिकायतकर्ता किसान का नाम गोपनीय रखा जाएगा।
उक्त दोनों आरोपी द्वारा म्यूरेट ऑफ पोटाश खाद 1100 रुपये मे बीना बिल के दिया जा रहा था। साथ ही फर्म द्वारा देयक प्रदाय भी नहीं किया गया। जबकि म्यूरेट ऑफ पोटाश की निर्धारित दर 1000 रुपये है। फर्म का निरीक्षण करने पर यह पाया गया कि उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 के अनुसार बिल बुक, स्टॉक बुक का संधारण भी नहीं किया जा रहा था। साथ ही म्यूरेट ऑफ पोटाश के विक्रय स्थल पर भण्डारण के संबंध मे पुष्टी कारक दस्तावेज भी प्रस्तुत नही किया गया। आरोपी द्वारा नियमानुसार व्यवसाय न करते हुवे अधिक दर पर खाद का विक्रय किया गया। इस कारण उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 की धारा 3,5 सह पठित आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3,7 के अंतर्गत अपराध पंजीबद्ध किया गया है।
सरकार के साथ प्रशासन का प्रमुख उद्देश्य है की उर्वरक के व्यवसाय को नियमित करते हुवे, किसानो को सही मात्रा व गुणवत्ता का उर्वरक निर्धारित दर पर प्राप्त कराना है। इस संबंध में उप संचालक किसान कल्याण तथा कृषि विकास जिला मन्दसौर को निर्धारित दर से अधिक दर पर म्यूरेट ऑफ पोटाश उर्वरक विक्रय पर नियंत्रण के लिए प्रभावी दल का भी गठन किया गया है। जिससे किसी स्थान विशेष या फर्म विशेष द्वारा खाद का निर्धारित दर से अधिक दर पर खाद बेचने तथा आवश्यक मापदंड के अनुसार दुकान में फर्म का संचालन नहीं करने पर कार्यवाही की जा सके।