म.प्र. पटवारी संघ द्वारा मांगो को लेकर किया गया ट्वीट आंदोलन  पूरे देश मे सातवे नम्बर पर रहा।

श्याम त्रिवेदी।
झाबुआ  ७ जून ;अभी तक; . कर्मचारी संघ के इतिहास मे रविवार को मध्य प्रदेश पटवारी संघ के द्वारा अपनी मांगो को लेकर किया गया ट्विटर पर ट्वीट आंदोलन  पूरे देश मे सातवे नम्बर पर रहा।
                    म.प्र. पटवारी संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष अखिलेश मुलेवा ने जानकारी देते हुये बताया कि मध्य प्रदेश पटवारी संघ के आवहान पर प्रदेश के पटवारियो ने अपनी ग्रेड पे 2800, नवीन पटवारियो का गृह जिले मे स्थानांन्तरण सी.पी.सी.टी. की अनिवार्यता समाप्त करने सहित अन्य मुद्दो को लेकर वर्षो से लंबित मांगो को लेकर रविवार को ट्विटर आंदोलन के जरिए सरकार के समक्ष पुनः अपनी मांगे दर्ज करवाई। पटवारियो की सफलता और इमानदारी से किए गए प्रयास के चलते मध्य प्रदेश पटवारी संघ ट्विटर पर देश मे प्रथम टाप टेन मे स्थान बनाने मे कामयाब रहा और सात नम्बर पर पटवारी संघ का ट्वीट आंदोलन ट्रेंड रहा। हालाकि प्रथम पांच टाप ट्रेड के लिए पटवारियो को अभी और मेहनत करनी पडेगी। पहले आंदोलन मे अपेक्षित सफलता मिलना ट्विटर आज दिन भी चर्चा का विषय रहा है।
               उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश पटवारी  संघ द्वारा अपनी वर्षो पुरानी मांग पे ग्रेड 2100 से बढाकर 2800 किए जाने संबधी मांग को लेकर सात बार कलम बंद हडताल की जा चुकी है । जो कि प्रत्येक बार आश्वासन मिलने के बाद समाप्त की गई है। इसलिये इस बार पटवारी  संघ द्वारा अपनी गतिविघियो मे सक्रियता लाने के लिए तैयारी की जा रही है।
                 श्री मुलेवा ने बताया कि कोरोनाकाल के चलते मांगे मनवाने के लिये जमीनी स्तर पर किसी प्रकार का बडा आयोजन किया जाना संभव नही है। इसलिये सोश्यल मीडिया के माध्यम से आनलाइन आंदोलन किये जाने की रूपरेखा तैयार की गई थी, जिसमे पटवारी संघ सफल भी रहा है।
                इस संबध मे पटवारी संघ के तहसील अध्यक्षगण सर्व श्री नानुराम मेरावत, झाबुआ, रामसिंह डामोर पेटलावद, मलसिंह डामोर थांदला, आंन्नद मेडा मेघनगर, गोपाल जोशी, रानापुर, छतरसिंह मेरावत रामा, ने संयुक्तरूप से कहा कि मध्य प्रदेश सरकार द्वारा पटवारियो के साथ लगातार वादा खिलाफी की जा रही है पूर्व मे पटवारी संध द्वारा सरकार के मौखिक एवं लिखित आश्वासन पर अपने आंदोलन समाप्त किये किन्तु इसके बावजूद सरकार ने तय समय पर भी आदेश नही कर पटवारियो के साथ अन्याय किया है जिससे प्रदेश का पटवारी अपने आप को ठगा सा महशूस कर रहा है।
               पटवारी संघ के ट्वीट आंदोलन मे रविवार को एक लाख तेइस हजार से अधिक ट्विट,री ट्विट काउंट हुए है। पटवारी संघ की ओर से इस आंदोलन मे ़ऋषि जायसवाल, मो.असरफ नीलेश पाटीदार, अर्जुन मेडा, ठाकुरसिंह भूरिया, सहित समस्त पटवारियो ने महत्वपूर्ण योगदान दिया ।