यात्रियों से मन माना किराया वसूल कर रहे हैं बस संचालक

भिंड से डॉ रवि शर्मा के ग्राउंड रिपोर्ट
भिंड ४ मई ;अभी तक; भिंड जिले में पहले से ही शासन स्तर पर यात्री परिवहन व्यवस्था लोगों को नहीं मिल पा रही है इसे दुरुस्त करने के लिए सूत्र सेवा शुरू करने के रूप में किए गए फिर भी सार्थक नहीं हो पाए । ऊपर से प्राइवेट बस ऑपरेटर्स यात्रियों से मनमाना किराया वसूल पर आपातकाल स्थिति में गरीब तबके के लोगों के लिए और भी अधिक मुसीबत खड़ी कर रहे हैं ;.
        कोरोना संक्रमण महामारी जैसी विपदा को जहां व्यापारी तक का मुनाफाखोरी का अवसर बन रहा है वहीं प्राइवेट बस ऑपरेटर यात्रियों से मनमाना किराया वसूल कर आपातकालीन स्थिति में गरीब तबके के लोगों के लिए और भी अधिक मुसीबत खड़ी कर रहे हैं कोरोना संक्रमण महामारी जैसी कृतिका में जहां व्यापारी तथ बस ऑफ बस ऑपरेटर हू मैं अपनी मनमर्जी से किराया तय कर दिया है जबकि इन दिनों आमजन के काम धंधे उठाते हैं वहीं अन्य प्रकार के रोजगार भी प्रभावित हैं ऐसे में निर्धारित किराए के अलावा अतिरिक्त रूप से नाजायज किराया ससुराल जाना आम नागरिक को मक्खन रहा है चिंतनीय है कि जिला परिवहन विभाग के अधिकारी इस पर अपना ध्यान आकर्षित नहीं कर रहे हैं नतीजा प्राइवेट बस ऑपरेटर आम आदमी की जेब पर सीधा प्रहार किया जा रहा है जिम्मेदार अधिकारी भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं ।
          परिवहन विभाग के अधिकारी शिकायत आने पर कार्यवाही की बात कर रहे हैं डीजल महंगा होने का बहाना किराया बढ़ाना निर्धारित किराया दर्जी किराया वसूले जाने के पीछे बस ऑपरेटरों का तर्क है कि एक तो डीजल के दाम ताजा से अधिक बढ़ गए हैं ऊपर से कोरोना संक्रमण काल के चलते बसों के अंदर 30 सीसी यात्री ही लाए और ले जाए जा रहे हैं ऐसे में चालक और परिचालक की तनख्वाह के अलावा बस के मेंटेनेंस का खर्च निकालने के साथ-साथ औसतन आमदनी बनाए रखने के लिए किराया बढ़ाकर लेना पड़ रहा है पहले जिसके अंदर 70 से 80 यात्री परिवहन कर रहे थे आज 30 से 35 मुसाफिर को ही ले जाने की स्वीकृति और शासन स्तर पर निर्धारित किराए से ज्यादा किराया लेने की शिकायत प्राप्त नहीं कोई है ऐसा करते पाए जाने पर संबंधित बस ऑपरेटर के खिलाफ कार्रवाई की जाएग अनुराग शुक्ला जिला परिवहन अधिकारी ने बताया मान रहा है वहीं प्राइवेट बस ऑपरेटर भी इसमें पीछे नहीं है आलम यह है कि