युवक ने चंबल में लगाई छलांग, युपी-एमपी पुलिस ने 6 किमी में कांटा में डाल चलाया रेस्‍क्‍यू, नहीं लगा सुराग

भिण्‍ड से डॉ.रवि शर्मा-

भिंड ६ नवंबर ;अभी तक; कारपेंटर का काम करने वाला एक युवक बिना बताए घर से गायब हो गया। युवक की बाइक 12 घंटे बाद रात  चंबल पुल पर लावारिस हालत में खड़ी मिली है। आखिरी लॉकेशन टोल प्‍लाजा पर सीसीटीवी कैमरा में दोपहर में देखी गई थी। फूप और यूपी की बढपूरा पुलिस ने चंबल नदी में कांटा डालकर 3 घंटे तक रेस्‍क्‍यू किया। लेकिन नदी में पुल के दोनों तरफ 6 किमी के क्षेत्र में युवक का कोई सुराग नहीं मिला है। युवक की तलाश में तीसरे दिन शुक्रवार को फिर से चंबल में रेस्‍क्‍यू चलाया जाएगा। फूप की ओझा कॉलोनी में रहने वाला शिवानंद 45 वर्ष पुत्र रामप्रकाश ओझा सुबह 8 बजे बाइक से भदाकुर गांव में गेट लगाने गए थे। लेकिन गांव में पहुंचकर उन्‍होंने काम नहीं किया और एक घंटे बाद ही वापस फूप लौट आए। दोपहर 3 बजे उन्‍होने बाजार में अपने मोबाइल में रींचार्ज कराया। दुकान पर रीचार्ज कराने के बाद शिवानंद बाइक पर बैठकर इटावा की ओर चल दिए। टोल टैक्‍स पर पौने चार बजे उनकी आखिरी लॉकेशन देखी गई थी। शिवानंद ने चंबल पुल पर एमपी की सीमा में बाइक खड़ी कर दी और उसके बाद गायब हो गया।  बाइक में चाबी मे साथ गुटखा, तंबाकू, कागज, मोबाइल की सिम भी मौके से बरामद हुई है। जिससे पुलिस फिलहाल इसे आत्‍महत्‍या मानकर चल रही है।

 किसी ने चंबल नदी में छलांग लगाते हुए नहीं देखा

शिवानंद को किसी ने चंबल नदी में छलांग लगाते हुए नहीं देखा है। दो बेटो के साथ वह एक बेटी का पिता भी है। कारपेंटर का काम करक परिवार का भरण-पोषण करता था। परिवार के सुग्रीव ओझा ने बताया घर में शिवानंद का किसी से कोई झगड़ा नहीं हुआ था, हालांकि वह शराब का जब कभी सेवन किया करते थे। हालांकि अभी यह कहा नहीं जा सकता कि युवक ने चंबल नदी में छलांग लगाई है या कोई अन्‍य मामला है। पुलिस भी मामले को लेकर खुलकर कुछ बोल नहीं पा रही है।

नदी में यूपी-एमपी की सीमा खंगाली

चंबल नदी में फूप पुलिस ने अपनी सीमा में गुरुवार की दोपहर 3 बजे एसडीआरएफ टीम के साथ रेस्‍क्‍यू चलाया। इसके साथ ही पुल के दूसरी तरफ से यूपी प्रशासन ने भी अपनी सीमा में शिवानंद को खोजने के लिए रेस्‍क्‍यू शुरू कर दिया। दोनों तरु से शाम 6 बजे तक नदी में युवक की तलाशी होती रही। कांटा डालकर तीन-तीन कि‍मी के दायरे में स्‍ट्रीमर के जरिए देखा गया, मगर शिवानंद का देर शाम तक कहीं सुराग नहीं लगा है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *