रंजिश पर मां-बेटी ने विवाहिता को कुंए में धकेला, मौत, हत्या का प्रकरण दर्ज

मयंक भार्गव

बैतूल ८ सितम्बर ;अभी तक;  एक लड़की बिना बताए घर से चली गई। तो लड़की की माँ और उसकी बहन को गांव की एक विवाहिता पर भगाने का शक हो गया। इस शक की वजह से रंजिश रखते हुए दोनों माँ-बेटी ने पहले विवाहिता की डंडे से पिटाई की और उसके बाद उसे घर के पीछे स्थित कुंए में धकेल दिया जिससे विवाहिता की मौत हो गई। विवाहिता को कुंए में धकेलते हुए उसकी पुत्री ने देख लिया था। बाद में पुत्री ने समूची घटना अपने पिता को बताई जिसके बाद पिता की रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी माँ-बेटी के खिलाफ हत्या का धारा 302, 450 के तहत प्रकरण दर्ज कर न्यायालय में पेश किया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। जिला मुख्यालय से करीब 75 किमी. दूर मुलताई थाने के अंतर्गत आने वाले ग्राम तिवरखेड़ में घटित हुई।

एक नजर में पूरा घटनाक्रम

मुलताई एसडीओपी नम्रता सौंधिया ने बताया कि प्रभातपट्टन ग्राम तिवरखेड़ में 2 सितंबर को ग्राम तिवरखेड़ निवासी लक्ष्मी पति अनिल लावसावरे (32) घर से अचानक गायब हो गई तो विवाहिता के पति और उसकी पुत्री नंदनी, पुत्र अभिषेक ने ग्राम में ही रहने वाले नाना-नानी लक्ष्मी के पिता सुरेश बासकवरे के घर पहुंच कर बताया कि मम्मी लक्ष्मी के घर से बिना बताए कहीं चली गई है। सुरेश ने पुत्री लक्ष्मी की संभावित ठिकानों पर खोजबीन की थी। लेकिन कहीं पता नहीं चला था। 5 सितंबर को सुबह 8 बजे लक्ष्मी का शव उसके घर के पीछे स्थित कुए में पानी में तैरता हुआ मिला था। सुरेश की सूचना पर पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच की।

माँ-बेटी ने शक में धकेला था विवाहिता को कुंए में

पुलिस सहायता केंद्र प्रभारी अनिल राहोरिया ने बताया कि एसडीओपी नम्रता सोंधिया और थाना प्रभारी सुनील लाटा के मार्गदर्शन में विवेचना की तो यह खुलासा हुआ कि ग्राम की ही रामकली पति इमरत उइके (60) की छोटी पुत्री बीते कुछ दिनों पूर्व घर से लापता हो गई थी। रामकली को संदेह था कि उसकी पुत्री को भगाने में लक्ष्मीबाई पति अनिल लावसावरे ने मदद की है। इस बात को लेकर रंजिश रखते हुए 2 सितंबर को सुबह 10 बजे के दरमियान रामकली और ग्राम में ही रहने वाली उसकी बड़ी पुत्री संगीता पति शिवराम गजामें ने लक्ष्मीबाई के साथ डंडे से मारपीट की। मारपीट से बचने के लिए लक्ष्मीबाई घर के पीछे की तरफ भागी तो दोनों ने उसके पीछे भाग कर घर के पीछे स्थित कुएं में लक्ष्मीबाई को धकेल दिया। पानी में डूबने से लक्ष्मीबाई की मौत हो गई।

पुत्री ने किया माँ की हत्या का खुलासा

इस मामले में यह भी खुलासा हुआ है कि लक्ष्मीबाई की पुत्री नंदिनी (11) ने दोनों महिलाओं को मारपीट करते हुए देखा था। श्री राहोरिया ने बताया कि जांच उपरांत आरोपी रामकली पति इमरत उइके और उसकी पुत्री संगीता पति शिवराम गजामे के खिलाफ धारा 302,450 के तहत केस दर्ज कर न्यायालय में पेश किया गया जहां से उन्हें मंगलवार को जेल भेज दिया गया।