रबी फसलों के लिए अमृत वर्षा

मयंक भार्गव

बैतूल २२ नवंबर ;अभी तक;  जिले के बड़े हिस्से शनिवार- रविवार की दरम्यानी रात और रविवार रात को मावठे की बारिश हुई समाचार लिखे जाने तक बारिश का सिलसिला जारी था। मावठा रबी फसलों के लिए अमृत वर्षा माना जा रहा है। मौसम विभाग के सूत्रों ने आगामी दो-तीन दिनोंं तक जिले के विभिन्न क्षेत्रों में तेज और हल्की बारिश होने की संभावना जताई जा रही है। बारिश के बाद मौसम साफ होते ही कड़ाके की सर्दी का दौर शुरू हो जायेगा।

दक्षिण भारत के समुद्रीय तटीय इलाकों में कम दबाव का क्षेत्र बनने से बीते लगभग एक सप्ताह से दक्षिण भारत के राज्यों में हो रही झमाझम बारिश से बैतूल जिले के मौसम में भी बदलाव हो गया है। शनिवार दोपहर को मुख्यालय बैतूल सहित अन्य इलाकों में बूंदाबांदी होने के बाद शनिवार- रविवार की दरम्यानी रात से सुबह तक बैतूल, मुलताई, चिचोली, प्रभातपट्टन, आठनेर सहित अन्य इलाकों में तेज और हल्की बारिश हुई। रविवार को दिन भर मौसम साफ रहने के बाद सायं करीब साढ़े छ: बजे से जिला मुख्यालय बैतूल में बारिश का सिलसिला शुरू हो गया। देर रात तक जिले के अन्य इलाकों में भी बारिश होने की खबर है। मौसम विभाग के सूत्रों ने आगामी दो तीन दिनों तक रूक-रूककर तेज और हल्की बारिश होने की संभावना जताई है।

लाखों रूपए का डीजल, बिजली बचेगा

मावठे की बारिश रबी सीजन फसलों के लिए फायदेमंद मानी जा रही है। जिले में अभी रबी सीजन की लगभग 50 फीसदी बोवनी बाकी है। बारिश होने से पलेवा एवं सिंचाई के लिए खर्च होने वाले लाखों रूपए के डीजल और बिजली की बचत होगी। जिन क्षेत्रों में अच्छी बारिश हुई है वहां पलेवा के लिए किसानों को सिंचाई नहीं करनी पड़ेगी। साथ ही जिन किसानों ने पूर्व में बोवनी कर दी है उनकी फसलों को भी बारिश से फायदा मिलेगा। इतना ही नहीं मावठे की बारिश होने से असिंचित क्षेत्र के किसान चना और सरसों की बोवनी कर सकेंगे। जिससे बोवनी का रकबा भी बढ़ेगा।

मौसम साफ होते ही कहर बरपायेगी सर्दी

बारिश होने से मौसम में ठंडक घुल गई है। परंतु तापमान में ज्यादा गिरावट नहीं आयी है। मौसम के जानकारों के मुताबिक बादल छटते ही रात के साथ दिन के तापमान में गिरावट आयेगी जिससे कड़ाके की सर्दी का दौर शुरू हो जायेगा।

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *