रम्भा ग्राम में बलवा तोडफ़ोड़ कांड में शामिल थे दो शासकीय कर्मी

मयंक भार्गव

बैतूल ९ सितम्बर ;अभी तक;  झल्लार थानांतर्गत रम्भा ग्राम में गत दिनों सामाजिक संगठन द्वारा धार्मिक आयोजन के नाम पर एकत्रित की गई भीड़ द्वारा सामाजिक संगठन पदाधिकारियों के उकसावे पर कुल्हाड़ी, गेंती, फावड़ा, डंडो से मकान दुकानों में तोडफ़ोड़ बलवा करने के मामले में दो शासकीय कर्मियों के शामिल होने का खुलासा हुआ है। सामाजिक संगठन के साथ मिलकर शासकीय कर्मियों के असामाजिक एवं आपराधिक गतिविधियों में शामिल होने को कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस ने खासी गंभीरता से लेकर अनुशासनात्मक कार्यवाही की है।

रम्भा में बलवा तोडफ़ोड़ कांड के आरोपियों में शामिल होने एवं आपराधिक प्रकरण दर्ज होने पर कलेक्टर ने भैंसदेही विकासखंड अंतर्गत माध्यमिक शाला चोपनी खुर्द में पदस्थ माध्यमिक शिक्षक पूनासिंग डिकारे एवं कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला घोड़ाडोंगरी में पदस्थ सहायक ग्रेड-तीन खुशराज दहीकर को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। रम्भा ग्राम में मकान एवं दुकानों में तोडफ़ोड़ कर अशांति फैलाने के मामले में झल्लार पुलिस ने दर्जन भर से अधिक आरोपियों के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय के आदेश पर जेल भेज दिया था। उल्लेखनीय है कि रम्भा में तोडफ़ोड़ एवं बलवा करने के मामले में अन्य आरोपियों के साथ कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला घोड़ाडोंगरी में पदस्थ सहायक ग्रेड-तीन खुशराज दहीकर एवं माध्यमिक शाला चोपनीखुर्द (भैंसदेही) में पदस्थ माध्यमिक शिक्षक पूना सिंह डिकारे के खिलाफ भी झल्लार पुलिस ने आईपीसी की धारा 188, 269, 270, 147, 148, 149, 427, 506, 440, 452 तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज किया है।

आपराधिक प्रकरण दर्ज होने के बाद कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस ने मध्यप्रदेश सिविल सेवा (वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील) नियम 1966 के नियम 9 (1) (ख) के तहत माध्यमिक शिक्षक पूना सिंग डिकारे एवं सहायक ग्रेड-3 खुशराज दहीकर को 7 सितंबर को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।