राष्ट्रीय पारम्परिक बीज और खाद्य महोत्सव में शामिल हुए पन्ना के किसान

11:25 pm or February 26, 2023

दीपक शर्मा

पन्ना २६ फरवरी ;अभी तक; पारंपरिक बीजों व फसलों के संरक्षण व संवर्धन हेतु इंडो ग्लोबल सोशल सर्विस सोसाइटी नई दिल्ली द्वारा दो दिवसीय राष्ट्रीय बीज एवं खाद्य महोत्स वर्ष का शुभारंभ ग्राम रहेलिया महोबा में दिनाँक 23 फरवरी को किया गया। इस अवसर पर विभिन्न राज्यों महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश एवं झारखंड के लगभग पांच सौ किसान शामिल हुए। सभी किसानो ने अपने राज्यों के पारंपरिक बीज को लेकर विस्तार से परियोजना के अंतर्गत अपने अपने विचार रखे।

                                    उक्त कार्यक्रम का उद्देश्य किसानो को पारंपरिक बीजों एवं जैविक कृषि पद्धति के प्रती जागरूक करना है तथा बुन्देलखण्ड में किसानो को बीज संरक्षक नेटवर्क तैयार करना है। कार्यक्रम में मुख्य रूप से मोटे अनाजों कोदो, कूटकी, रागी, ज्वार, बाजरा आदि के बीज संरक्षण पर जोर दिया गया। पन्ना जिले से शैक्षणिक भ्रमण पर गये किसान स्वयंसेवी संस्थाओं के सदस्यो ने अपने जिले मे पूर्व से उगाये जा रहे बीजो के संबंध मे विस्तार से जानकारी ली तथा आगमा समय मे उक्त बीजो के आधार पर खेती करने के संबंध में प्रशिक्षण प्राप्त किया। एवं आगामी समय मे परमपरागत तरीके से एवं जैब संरक्षण, जैविक खाद् तथा आधुनिक प्राचीन बीजो को फिर से खेती करने के संबंध में प्रशिक्षण प्राप्त किया। इस दौरान सोने लाल पटेल ने कहा की हम सब पुराने बीज को भूल रहे है हमारे बच्चे कैसे जानेगे की हमारा बीज क्या थे। हमें मोटे अनाज को वोना चाहिये। आज हम देखकर सोच रहे है की, हम बहुत भूल कर रहे है। जगन्नाथ पटेल विक्रमपुर एवं विलखुरा से लल्लू विश्कर्मा एवं विल्हा से सोने लाल एवं पल्थरा से गुलाब सिंह तथा स्वंयसेवी संस्था की टीम से क्षेत्रीय समन्वयक ज्ञानेन्द्र तिवारी धरमराज एवं शिवंग सोनी, प्रकाश नागर ने सहभागिता निभाई है।