राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण ने फसल अवशेष जलाना किया  प्रतिबंधित

राजेंद्र तिवारी

जगदलपुर, 24 नवम्बर ;अभी तक; राज्य सरकार ने फसल कटाई के पश्चात खेतों में बचे फसल अवशेष को राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) द्वारा दिए गए निर्देशों के आधार पर जलाने को प्रतिबंधित कर दिया है। इसके संबंध में कृषि विभाग द्वारा विकासखण्ड एवं ग्राम स्तर पर समय-समय पर प्रशिक्षण एवं कृषि चैपालों के माध्यम से किसानों को फसल अवशेषों को खेतों में जलाने से होने वाले नुकसान जैसे कार्बन डाईआॅक्साइड, नाईट्रस आॅक्साइड, मिथेन गैस एवं विभिन्न प्रकार की जहरीली गैसों से वायु प्रदूषण एवं लाभ दायक जीवाणुओं के नष्ट होने से मृदा प्रदूषण के दुष्प्रभाव जानकारी दिया जाता रहा है।
उप संचालक कृषि ने बताया कि फसल अवशेष को जलाने से वायु प्रदूषण होता है जिसके लिए वायु प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण अधिनियम के तहत् 02 एकड़ से कम खेत केे लिए 2500 प्रति घटना, 02 से 05 एकड़ तक 5000 प्रति घटना तथा 05 एकड़ से अधिक होने पर 15000 घटना अर्थदण्ड व 06 माह सजा का प्रावधान है। फसल अवशेष को जलाने वाले कृषकों को राज्य पोषित राजीव गांधी न्याय योजना के तहत् मिलने वाले लाभ से वंचित किया जाना प्रावधानित है। इसलिए ग्रामीण स्तर पर कृषकों को फसल अवशेष न जलाने की सलाह दी गई है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *