रिकार्ड जलाकर नष्ट करने के मामले मे हुई साजिश का खुलासा करने मे पुलिस को अब तक कोई सफलता नहीं मिली

टीकमगढ़ से पुष्पेंद्र सिंह
टीकमगढ़  19 जून ; ‘अभी  तक ;!यहाँ जिला सयुंक्त कार्यालय भवन मे स्थित स्वास्थ्य बिभाग के एक कक्ष मे कुछ रिकार्ड जलाकर नष्ट करने के मामले मे हुई कथित साजिश का खुलासा करने मे पुलिस को अब तक कोई सफलता नहीं मिली है !
             मामला बीती 6 जून का है । घटना के सम्बन्ध मे देहात पुलिस थाने मे अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ भादिवि की धारा 436, के तहत प्रकरण पंजीबद्ध है, एक पखवाड़ा बीतने के बाद भी पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है ! देहात पुलिस थाने के निरीक्षक नासिर फारुकी बताया कि घटना की जाँच मे समूचे भवन के सीसीटीवी कैमरे के फुटेज छान लिए लेकिन कुछ ऐसा तथ्य नहीं मिला जिसके सहारे घटना के आरोपी तक पंहुचा जा  सके, उन्होंने आशंका व्यक्त की, कि बदमाश ऑफिस के पीछे के रास्ते से अंदर घुसा होगा  और अपना काम करके निकल गया, और वहाँ कैमरा न होने की वजह से हमें कोई साक्ष्य नहीं मिल पाया !
              यहाँ प्रासंगिक होगा कि स्थानीय सांसद वीरेंद्र कुमार के प्रतिनिधि मनोज देवलिया ने घटना के कुछ दिन पूर्व ही बिभाग से, कोरोना की समयाबिधि मे दवा, उपकरण और कुछ अन्य मामलों से सम्बंधित अभिलेखों की जानकारी उपलब्ध कराने हेतु सीएमएचओ  शिवेंद्र चौरसिया से लिखित अनुरोध किया था, उक्त घटना को जिले के जागरूक नागरिक, राजनैतिकदलों के कुछ लोग, सांसद के प्रतिनिधि देवलिया द्वारा चाही गयी जानकारी से जोड़ कर देख रहें हैं! । देवलिया को चाही गयी  जानकारी देने मे स्वास्थ्य विभाग की टालमटोल से, सांसद प्रतिनिधि के उन आरोपों को बल मिलता है जिनमें घटना के दिन उन्होंने विभाग पर चाही गयी जानकारी नष्ट करने का आरोप लगाया था! जिले के उक्त विभाग मे कथित रूप से भारी भ्रष्टाचार की चर्चा है  । अब देखना यह है कि देवलिया को इसकी जानकारी कब मिल  सकेगी ।