रिश्वत मांगने वाले पटवारी और लेने वाले रिटायर कर्मचारी को पांच साल की सजा

3:31 pm or August 4, 2022

देवेश  शर्मा 

मुरैना  4 अगस्त ;अभी  तक; मुरैना जिला न्यायालय/भ्रस्टाचार निरोधक/ ने बुधवार को घूसखोरी के एक मामले में फैसला सुनाते हुए एक पटवारी को पांच साल और पटवारी के लिए रिश्वत लेने के लिए दलाल का काम कर रहे रिटायर कर्मचारी को चार साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। दोनों दोषियों पर कोर्ट ने 75 हजार रुपये का भारी-भरकम जुर्माना भी लगाया है।

                      जिला न्यायालय की मीडिया सेल प्रभारी रश्मि अग्रवाल ने बताया कि यह मामला साल 2014 का है। मुरैना के किसान गिर्राज जाटव ने करीब 20 साल पहले फूलसिंह यादव से जमीन खरीदी थी। इस जमीन का कुछ हिस्सा पटवारी से साठगांठ करके फूलसिंह यादव के खेत में मिला दी। इसी जमीन का सीमांकन व बटांकन करवाने के एवज में पटवारी जगदीश प्रसाद डण्डोतिया पुत्र मनोहर सिंह डण्डोतिया ने 30 हजार रुपये की रिश्वत मांगी।

                     उन्होंने बताया कि  किसान गिर्राज जाटव ने पटवारी का एक आडियो ग्वालियर लोकायुक्त को देकर शिकायत कर दी, जिसमें पटवारी 30 हजार रुपये की घूस मांग रहा था। इसके बाद लोकायुक्त ने किसान को केमिकल मिले 10 हजार रुपये देकर 24 जुलाई 2014 को पटवारी जगदीश डण्डोतिया के घर भेजा, लेकिन पटवारी ने खुद रिश्वत लेने के बजाय राजस्व विभाग के ही एक रिटायर कर्मचारी रामदीन पुत्र रामप्रसाद शर्मा उम्र 75 साल को जिम्मेदारी दे दी। जैसे ही रामदीन शर्मा ने किसान से रिश्वत के 10 हजार लिए, तभी लोकायुक्त टीम ने उसे दबोच लिया।

                    उन्होंने बताया कि रामदीन शर्मा ने अपने बयानों में बता दिया, कि वह यह रिश्वत पटवारी जगदीश डण्डोतिया के लिए ले रहा था। उन्होंने बताया कि लोकायुक्त की जांच रिपोर्ट व गवाहों के बयानों के आधार पर न्यायालय ने पटवारी जगदीश डण्डोतिया व सहयोगी रिटायर्ड कर्मचारीको दोषी करार दिया।न्यायालय ने पटवारी को  पांच साल के सश्रम कारावास व 50 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है, वहीं पटवारी के लिए रिश्वत ले रहे रामदीन शर्मा को चार साल के सश्रम कारावास व 25 हजार रुपये के जुर्माने से दण्डित किया है। उक्त मामले में शासन की ओर से विशेष लोक अभियोजक रोशनलाल छापरिया ने की है।