रुपाली बारे का कांग्रेस से निष्कासन रद्द: अरूण यादव को झटका

मयंक शर्मा
खंडवा २३ दिसंबर ;अभी तक;  2018 का विस चुनाव बेटिकट होने पर स्वतंत्र होकर चुनाव लडने के कारण कांग्रेस से निष्कासित रुपाली नंदु बारे का कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने बुधवार को  कांग्रेस से निष्कासन रद्द करते हुये उनकी कांग्रेस में वापसी तय कर दी है।
                 वरिष्ठ नेता ठाकुर राजनारायणसिंह ने बताया कि उनकी  अनुशंसा पर पार्टी हाईकमान ने सकारात्मक  निर्णय लिया। निष्कासन की वजह पार्टी से बागी होकर निर्दलीय चुनाव लड़ना। 2018 के विस चुनाव में रुपाली ने पंधाना सीट से दावेदारी की थी। लेकिन, यादव गुट ने अपने समर्थक छाया मोरे को उम्मीदवा बनाया और जीत भाजपा प्रत्याशी को  मिला।अब रूपाली की  वापसी से यादव गुट का झटका मिला  है।यह कहना असामान्य नहीं होगा कि निमाड के पूर्वी अंचल में एक  एक करके उनके पैरों की जमीन खिसकाने में मिलती सफलता से विरोधियों में खुशी है। कां्रग्रेस के प्रति कार्यकर्ताओ का रूझान भी देखा जा रहा है।
                 पंधाना अजा विस क्षेत्र की कांग्रेस नेत्री रुपाली बारे ने बताया, उनके पिताश्री नंदु बारे के स्वर्गवास के बाद 26 साल की उम्र में कांग्रेस परिवार में सक्रिय हुई थी। पंधाना क्षेत्र में जमीनी स्तर पर पार्टी के हित में काम किया।लेकिन उनके पिता की विरासित मे उन्हें मौका न देकर छाया को मौका दिया। मैं लोकल थी। छाया बाहरी थी । रुपाली बारे ने कहा, कांग्रेस से निष्कासन रद्द होने से वे स्वयं खुश है वहीं कार्यकर्ताओं व ग्रामीणों में हर्ष की लहर है।
                  खंडवा सीट के लोकसभा उपचुनाव2021 में  में कांग्रेस उम्म्ीदवार ठा राजनारायणसिंह के लिये प्रचार किया । पंधाना विस सीट पर कांग्रेस का वोटिंग परसेंट बढ़ा। इसी का प्रतिफल है कि  कांग्रेस के प्रति मेरी निष्ठा व कर्मठता देखते हुये राजनारायणसिंह की अनुशंसा को राष्ट्ीय व प्रातीय नेतृत्व से स्वीकारोक्त् िमिली है और मै सभी का आभारी हूं। अगले विस
चुनाव में  2023 मे पार्टी ने उम्म्ीदवार बनाया तो वे निश्चित चुनाव लडेगी।