रूपचाॅद आराधना भवन मे साध्वी श्री मोक्षाज्योंतिश्रीजी व आदशर्ज्योतिश्रीजी के मुखारबिन्द से कल्पसुत्र का वाचन प्रारंभ

महावीर अग्रवाल
मंदसौर  ६ सितम्बर ;अभी तक;  चैधरी काॅलोनी स्थित रूपचाॅद आराधना भवन में प्रयूर्षण पवर् के चतुथर् दिवस सोमवार से जैन धमर् के प्रमुख शास्त्रो  कल्पुसत्र का वाचन प्रारंभ हो गयाहै। साध्वी श्री मोक्षाज्योतिश्रीजी मसा व आदशर्ज्योतिश्रीजी मसाके मुखारबन्दि से यहाॅ कल्पसु़त्र का वाचन किया जा रहा है।  आज दिनांक 7 सितम्बर मंगलवार को प्रयूर्षण पवर् के पंचम दिवस प्रात 10 बजे से प्रभु महावीर हषोल्याल से मनाया जायेगा। जन्मवाचन के पूवर् जन्म भगवान महावीर की माता विशाल के स्पप्न में आयी 14 सपानायी की बोलिया लगायी जायेगी तथा जन्म वाचन के उपरांत पालनजी की जुलुस निलेगा।
             सोमवार को रूपचादं आराधना भवन में आयोजित धमर्सभा में साध्वी श्री मोक्षज्योति मसा ने कल्पसुत्र का वाचन करते हुए इसका महत्व बताया । आपने कहा कि कल्पसुत्र जैन धमर् का सबसे महत्वपूणर् आगम है जैन धमर् के 45 आगम है। उसमें कल्पसुत्र का वाचन करते हुए इसका महत्व बताया। आपने कहा कि कल्पसुत्र जैन धमर् का सबसे महत्वपूणर्  आगम है जैन धमर् में 45 आगम है उसमें कल्पसुत्र  का विशिष्ट महत्व है । इसी कारण्ध प्रयूर्षण महापवर् में इसका श्रवण करना बहुत ही पुण्य शाली माना गया है। ऐसा माना जाता है कि जो भी प्राणी 21 बार पुरे मनोभाव से इसका श्रवण करता है वह बार बार जन्म मरण के बंधनो से मुक्त हो जाता है । प्रयूर्षण पवर् में हमे पुरे मनोभाव से कल्पसुत्र को श्रवण करना चाहिए।
              भाचवात परिवार ने लिया कल्पसुत्र विराने का लाभ- धमर्सभा के प्रारंभ में धनसुखलाल भाचावत परिवार ने कल्पसुत्र विराने का धमर्लाभ लिया भाचख्वाच परिवार की श्रीमती ज्योति भाचवात ईष्ठा भचावत व निशा भाचवात ने कल्पसुत्र का वाक्षक्षेप पूजन कर कल्पसुत्र को विराने का धमर् लाभ लिया।
             इन्होने लियाज्ञान पूजा का लाभ- धमर्सभा में कल्पसुत्र को विराने के उपरातं पांच ज्ञान पूजा की बोली का लाभ लने वाले  धमार्लुजन परिवारो केद्वारा ज्ञान पूजा की गयी। जिसका लाभ क्रमश कांतिलाल दुग्गड परिवार, रखबचंद बिल्लेरिया परिवारख् राजकुमार डोसी परिवार मोहनलाल पोरवाल परिवार, उमेश पितलिया परिवार ने लिया। अष्ठाप्रकारी पूजा का लाभ पुनमचंद्र दिलीप कुमार अनिल कुमार डांगी परिवार ने लिया।  धमर्सभा के उपरांत  सुरेश कुमार कपिल सुराना नाहरगढ वाला परिवार की ओर से प्रभावना वितरित की गयी।
              सांस्कृतिक कायर्क्रमो में महिलायो व बच्चो  प्रतिदिन कर रहे है भागीदारी- प्रयूर्षण पवर् में प्रतिदिन रात्रि 8 बजे से  10 बजे तक रूपचाॅद आराधरना भवन में प्रभु भक्ति के अंतगर्त धामिर्क व सांस्कृतिक कायर्क्रम आयोजित हो रहे है । इन कायर्क्रमो में महिलाओ व बच्चो के द्वारा बडी संख्या में भागीदारी की जा रही है। कल रा़ित्र को  2 से 12 वषर् तक के बच्चो के लिये फेंसी डेस प्रतियोगिता आयेाजित की गयी। इसमें बच्चो में अलग अलग प्रकार की वेशभुषा में आकर भागीदारी की प्रतियोगिता के आयोजन में महिला मण्डल की सक्रिय भूमिका रही।