रेत माफियाओं को पकडऩे के दौरान फायरिंग में किसान की गोली लगने के बाद मौत, ग्रामीणों ने किया चक्काजाम

देवेश शर्मा

मुरैना १३ जून ;अभी तक;  मुरैना जिले में रेत माफिया द्वारा  चम्बल नदी से लगातार रेेेत के   अवैध उत्खनन के चलते आज सुबह  वन विभाग की टीम का सामना  रेत माफिया से हो गया।  अवैध रेत  प भरी  ट्रेेेकटर-  ट्रराली को पकड़ने के लिए वन विभाग की टीम ने फायरिंग  की,   जिसमें एक राहगीर किसान महावीर तोमर,55निवासी अमोलपुर  को गोली लग गई जिससे उसकी मृत्यु हो गई। किसान की मृत्यु के बाद आक्रोश ग्रामीणों ने वन विभाग की टीम को घ्ेार लिया जिससे वन विभाग की टीम अपने वाहन छोडकर वहां से भाग निकली।ग्रामीणों नेे    वन विभाग के पकड़े    बाहन को तोड़ दिया व चक्का जाम   किया, तब  नगराथाना  पुलिस ने 9 वनकर्मीयोों के  विरुद्ध हत्या का   मामला दर्ज कर लिया है।

अनुविभागीय अधिकारी वन श्रद्धा पाण्डेर के  अनुसार वन विभाग को मुखबिर द्वारा सूचना मिली कि नगरा में कुछ रेत माफिया अपने वाहन से अवैध रेत को ले जा रहे हैं। सूचना पर वन विभाग और पुलिस द्वारा संयुक्त टीम बनाकर नगरा में सुबह करीब 5 बजे पहुंची। पुलिस को घेराबंदी को देख रेत माफिया अलर्ट हो गए और वहां से भागने लगे। इस पर वन विभाग की टीम ने उक्त माफिया के वाहन का पीछा किया। उन्होंने बताया कि इसके रेत माफिया ग्राम अमोलपुर की ओर जाने लगा जिस पर वन विभाग की टीम ने उसे रोकने के लिये वाहन के टायर पर फायर किये। इस दौरान सामने से एक किसान अपनी भैंसों को चराकर आ रहा था तभी वन विभाग की फायरिंग में उसे गोली लग गई थी।इस मौके का फायदा उठाकर अवैध रेत उत्खनन कर ला रहे लोग भाग गये।उन्होंने बताया कि ग्रामीणों के आक्रोश को देखकर वन विभाग की टीम बाहन छोड़ भाग निकली।ग्रामीणों ने उनके वाहन को तोड़ दिया है।उधर पुलिस निरीक्षक रामपाल सिंह के अनुसार ग्रामीणों की शिकायत पर से 9 वन कर्मियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर विवेचना में लिया गया है।