रेत से भरे ट्रैक्टर को रोकने सामने डट गई बीड गार्ड, घबराकर चालक ट्रैक्टर-ट्राली छोडक़र हुआ फरार

7:36 pm or June 1, 2022
मयंक भार्गव
बैतूल एक जून ;अभी तक;  अभी तक आपने और हमने झांसी की रानी के विषय में खूब पढ़ा और सुना है लेकिन आज हम आपको एक ऐसी ही वन विभाग की बीट गार्ड मर्दानी के विषय में बताने जा रहे हैं जिसने रेत से भरी एक ट्रैक्टर ट्राली लेकर भाग रहे चालक को रोकने के लिए  ट्रैक्टर के दोनों पहिए के बीच जाकर डट गई। बीट गार्ड ललिता धुर्वे के इस साहस को देखकर ट्रैक्टर चालक रेत से भरी ट्रैक्टर ट्राली छोडक़र भागने पर विवश हो गया। बीट गार्ड ललिता धुर्वे के इस साहस की वन विभाग के आला अधिकारियों सहित आम नागरिकों द्वारा खूब सराहना की जा रही है।
  मोर्चा लगाकर बैठी ललिता
                        वन विभाग सारणी रेंज के रेंजर अमित साहू ने बताया कि वन विभाग की टीम को सूचना मिली थी कि वन क्षेत्र से रेत का अवैध उत्खनन कर ट्रैक्टर ट्रॉली से रेत का अवैध परिवहन किया जा रहा है। इस सूचना पर नाके पर तैनात बीट गार्ड ललिता धुर्वे अन्य वन कर्मियों के साथ नाके में मोर्चा संभालकर छिप कर बैठ गए थे। सुबह 4 बजे के दरम्यिान अवैध रेत से भरी ट्रैक्टर ट्राली नाके के पास पहुंची।
ट्रैक्टर के पहुंचते सामने आकर डट गई ललिता
                         जैसे ही अवैध रेत से भरी ट्रैक्टर ट्राली नाके पर पहुंची मोर्चा संभालकर बैठी हुई ललिता सीधे ट्रैक्टर की ओर दौड़ पड़ी। बीट गार्ड ललिता को अपनी ओर आते देख ट्रैक्टर चालक ने ट्रैक्टर पीछे लेकर भागने का प्रयास किया लेकिन ललिता ने दौड़ लगाते हुए ट्रैक्टर को रोकने दोनों पहिए के बीच में जाकर खड़ी हो गई।
जान जोखिम में डालकर रोका ट्रैक्टर
                      जिस तरह से ललिता धुर्वे ट्रैक्टर के दोनों पहियों के बीच में जाकर खड़ी हो गई थी। इस दौरान चालक द्वारा भागने के चक्कर में करीब दो बार ललिता ट्रैक्टर के पहियों में आने से भी बाल-बाल बची। ललिता के इस साहस को देखकर अंतत: ट्रैक्टर चालक ट्रैक्टर-ट्राली छोडक़र भागने पर मजबूर हो गया। इसके बाद वन विभाग ने रेत से भरी ट्रैक्टर ट्राली जब्त कर ली है।
पुलिस में की जा रही शिकायत
                    वन विभाग सारणी रेंज के रेंजर अमित साहू ने बताया कि ट्रैक्टर दुर्गेश मालवीय निवासी घोड़ाडोंगरी और चालक नंदकिशोर सलाम बंदीढाना बांसपुर के खिलाफ भारतीय वन अधिनियम 1927 के तहत वन अपराध प्रकरण क्रमंाक 737/13 पंजीबद्ध किया गया है। साथ ही शासकीय कार्य में बाधा डालने एवं वन रक्षक को कुचलकर मारने के प्रयास करने के मामले में पुलिस चौकी घोड़ाडोंगरी में शिकायत दर्ज कराई गई है। साथ ही सीसीटीवी फुटेज भी उपलब्ध कराई गई है।