रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी में रतलाम-मंदसौर के नाम भी जुडे

अरुण त्रिपाठी

रतलाम, २६  अप्रैल ;अभी तक;  इंदौर, भोपाल, जबलपुर के बाद रतलाम और मंदसौर जैसे छोटे शहरों के नाम भी अब रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी में जुड गए है। पुलिस ने डाक्टरी की पडाई कर रहे दो युवकों को 1 से 3 हजार का इंजेक्शन 30 हजार में बेचने के आरोप में गिरफतार किया है, जबकि मंदसौर से एक अन्य युवक को हिरासत में लिया गया है।

एसपी गौरव तिवारी ने आधिकारिक बयान में बताया कि 25 अप्रैल को मुखबिर ने रतलाम के अस्सी फीट रोड स्थित जीवांश हास्पीटल से जुडे उत्सव नायक द्वारा रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने की सूचना दी थी। पुलिस टीम ने घेराबंदी कर उक्त युवक को पकडा और उससे एक इंजेक्शन जब्त किया। पूछताछ ने अपना नाम उत्सव नायक पिता ईश्वर नायक उम्र 25 वर्ष निवासी ग्राम कोदरी पेटलावद जिला झाबुआ एवं हाल मुकाम जीवांश हास्पीटल रतलाम बताया और कहा कि बीएएमएस का द्वितीय वर्ष का छात्र होकर जीवांश हास्पीटल में काम करता है। उसने बताया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन बीएचएमएस के अंतिम वर्ष के छात्र यशपाल राठौर पिता श्यामसिंह राठौर उम्र 24 वर्ष निवासी ग्राम पंचेड थाना नामली जिला रतलाम हालमुकाम जीवांश हास्पीटल रतलाम के कहने पर बेच रहा था। उन्हें ये इंजेक्शन मंदसौर के प्रणव जोशी पिता यशवंत जोशी उम्र 21 वर्ष से 25 हजार रूपए में मिले थे, जिन्हें 30 हजार में बेचकर वे मुनाफा बांट रहे थे।

एसपी श्री तिवारी ने बताया कि पुलिस ने इसके बाद मंदसौर में दबिश देकर प्रणव को हिरासत में ले लिया है। सभी आरोपियों के खिलाफ भादवि की धारा 420, 34 एवं आवश्यक वस्तु अधिनियम की धारा 3-7 के तहत प्रकरण दर्ज कर मामले की विवेचना की जा रही है।
——————————-

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *