लगातार चल रहा रेत का अवैध कारोबार, खनिज, राजस्व, पुलिस का अमला नही कर रहा कार्यवाही

8:35 pm or November 13, 2022
(दीपक शर्मा)
पन्ना १३ नवंबर ;अभी तक; जिले की अजयगढ तहसील अन्तर्गत केन नदी से रेत निकालने का अवैध कारोबार लगातार जारी है प्रतिदिन सैकडो डम्फर विभिन्न स्थानो से रेत निकाली जा रही है तथा रेत माफियाओं द्वारा विक्रय की जा रही है।
                            क्षेत्र के बीरा, रामनई, बरोली, भानपुर मे एलएनटी तथा जेसीबी मशीनो के माध्यम से अवैध रूप से रेत का कारोबार संचालित हो रहा है। उक्त अवैध कारोबार को रोकने की दिशा मे खनिज, राजस्व, पुलिस विभाग द्वारा कोई कार्यवाही नही की जा रही है।
                        विगत डेढ वर्ष पूर्व से यह अवैध कारोबार संचालित हो रहा है क्योकि इसके पूर्व रेत ठेकेदार रशमीत मलहोत्रा द्वारा पन्ना जिले की खदानो का 36 करोड मे ठेका लिया गया था तथा डेढ वर्ष चलाकर ठेकेदार द्वारा काम बंद कर दिया गया, और उसी समय जून 2021 से लगातार रेत का अवैधानिक रूप से कारोबार चल रहा है। जिसमे शासन के करोडो रूपये राजस्व की हानी हो रही है।
                  इस अवैध रेत उत्खनन के कारोबार को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्गविजय सिंह ने भी अजयगढ क्षेत्र का भ्रमण किया था तथा सरकार पर तीन हजार करोड से अधिक की रेत अवैध रूप से उत्खनन कर बेचने का आरोप भी लगाया था। उसके बावजूद यह अवैध कारोबार नही रोका गया और न ही जिले की रेत खदानो की नीलामी की गई। इस अवैध कारोबार मे सत्ताधारी दल के बडे नेता तथा स्थानीय प्रशासन पूर्ण रूप से शामिल है। अजयगढ क्षेत्र के कांग्रेस नेता भरत मिलन पान्डेय ने भी लोकायुक्त भोपाल तथा हरितक्रांति अभीकरण मे भी प्रकरण लगाया गया था। जो अभी चल रहा है, लेकिन रेत का अवैध कारोबार रूकने का नाम नही ले रहा है। स्थानीय लोगो के अनुसार नदी, घाटो तथा स्थानीय किसानो के खेतो से दिन रात डम्फरो तथा ट्रैक्टरो से रेत निकाली जा रही है। खनिज मंत्री का ग्रह जिला होने के बावजूद इस प्रकार का अवैध कारोबार लगातार चल रहा है, उसके बावजूद स्थानीय खनिज अधिकारी रवी पटेल द्वारा शासन के राजस्व मे हो रही भारी चोरी रोकने की दिशा मे कोई कार्यवाही नही की जा रही है। जिले के जिम्मेवार अधिकारीयों से संपर्क करने के लिए मोबाईल लगाया जाता है तो अधिकारी मोबाईल फोन भी नही उठाते है, और यदि कोई अधिकारी फोन उठा लेता है तो इस संबंध मे कोई भी बात करने मे मना कर देता है। आखिर पन्ना जिले की संपदा लुट रही है शासन के राजस्व का भारी नुकसान हो रहा है जिले के लोगो को भी मंहगे दामो मे रेत मिल रही है, नदी से रेत निकालने पर हजारो जीव जंतू नष्ट हो रहें है। नदीयों मे अवैध खुदाई से उनका अस्तित्व नष्ट हो रहा है उसके बावजूद जिम्मेवार जन प्रतिनिधी तथा अधिकारी कोई भी प्रकार की कार्यवाही करने से पल्ला झाड रहें है।