लडकी के साथ दुष्कर्म के बाद अबोध 4 सगे भाई-बहनों की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या

मयंक शर्मा

खंडवा १७ अक्टूबर ;अभी तक; रोजगार के लिये सरहद से सटे राज्य महाराष्ट् के ग्राम बोरखेडा (रावेर) गये मप्र के एक ही परिवार के 4 बच्चों की कुल्हाडी से काट डालने की सनसनीखेज घटना के बाद आरोपियो की तलाश के लिये महाराष्ट् सरकार ने  एसआईटी गठित की है। मृतक बच्चो के पिता मेहताब भिलाला अपनी पांचवी संतान के रूप मे सबसे छोटी बेटी व पत्नि को साथ ले गये थे। वे अपने रिश्तेदारी में गमी पर माॅजूदगी  दर्ज कराने गुरूवार को निकले थे। वे ग्राम के मुस्तफा के खेत मे रहकर वहीं मजदूरी करते है।

                  गठित टीम एसआईटी के प्रमुख  कुमार सिन्हा ने बताया कि ं एक ही परिवार के 4 बच्चों की कुल्हाड़ी के काटकर हत्या कर दी गई। मृतकों में 2 लड़के और 2 लड़कियां हैं। इनकी उम्र 3 से 12 साल है। चारों के शव खेत में मिले हैं। उन्होने बताया कि शुक्रवार सुबह एक किसान ने खेत गया तो खून से लथपथ चार बच्चो के शव उसने  देखे। जिस खेत में शव मिले हैं, उसके मालिक मुस्तफा  ने ही फोन कर पुलिस को जानकारी दी। मुस्तफा  ने बताया कि बच्चों के माता-पिता मूल रूप से मध्यप्रदेश के खरगोन जिले के रहने वाले हैं और घटना रात्रि बच्चे अकेले थे और  माता पिता अपने खरगौन जिले के पैतृक गांव गए थे। ं।
              श्री सिन्हा ने  कहा कि कि  ग्राम बेारखेडा ( रावेर तहसील ) की है। मृतकों में सुमन (3), अनिल (9), रावल (12) और सरिता (14) शामिल हैं।  इनके मां-पिता एक खेत में काम करते थे। बच्चों को अकेले छोड़कर वे मध्य प्रदेश में अपने पैतृक गांव गए थे। इस बीच, किसी ने धारदार हथियार से चारों बच्चों की हत्या कर दी। वारदात की वजह और आरोपियों के बारे में अभी कुछ पता नहीं चल पाया है।
                  श्री सिन्हा ने  कहा कि सभी एंगल से  सामूहिक हत्यांाकाड की जाच की जा रही है इसमें महाराष्ट् के सांसद रक्षा खडसं द्वारा व्यक्त यह आशका शामिल है कि बडी 14 वर्षीय लडकी के साथ दुष्कर्म के बाद यह बीभत्स हादसे को अंजाम दिया गया। इसी आंशका को  महाराष्ट् के एक पूर्व मंत्री ने भी मजबूती देते हुये मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।
               श्री सिन्हा ने शनिवार को मीडिया से चर्चा में  कहा कि बोरखेडा  गांव को सील कर लोगों से पूछताछ की जा रही है।हत्या की वजह और आरोपियों के बारे में फिलहाल कोई सुराग पुलिस के हाथ नही लगा है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *