लाडली लक्ष्मी योजना बनी सहायक, अब डॉक्टर बनकर लोगों सेवा करना चाहती हैं रिया सरियाम

सौरभ तिवारी

होशंगाबाद १२ नवंबर ;अभी तक;  होशंगाबाद-राज्य सरकार द्वारा संचालित लाडली लक्ष्मी योजना जहां एक ओर महिला सशक्तिकरण की मिसाल बनी है, वहीं दूसरी ओर जनजातीय समुदाय की बेटियों के सशक्तिकरण की दिशा में अहम भूमिका निभा रही है। योजना से लाभान्वित हो यह बालिकाएं अपने उज्ज्वल और सुरक्षित भविष्य की ओर आगे बढ़ रहे हैं। ऐसी ही बालिका है होशंगाबाद जिले के ग्राम कांदई खुर्द के रामसेवक सरियाम की पुत्री रिया सरियाम।

रिया शासन की इस योजना का लाभ लेकर अच्छे से अपनी शिक्षा पूरी कर रही हैं, वे डॉक्टर बनने के सपने को पूरा करना चाहती हैं। रिया को नवंबर 2008 में योजना में पंजीकृत किया गया था, योजना के तहत रिया को कक्षा छठवीं में प्रवेश लेते समय 2000 रुपए, इसी तरह कक्षा 9वी में प्रवेश लेते समय 4000 कक्षा 11वीं में प्रवेश लेने पर 6000 रुपए राशि की लाडली लक्ष्मी छात्रवृत्ति प्रदान की गई।

रिया के द्वारा बताया गया कि उनके द्वारा छात्रवृत्ति की राशि का उपयोग विभिन्न शिक्षा से संबंधित किताबें एवं अन्य सामग्री खरीदने में किया गया। रिया ने बताया कि वह अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद चिकित्सा विभाग में डॉक्टर बनना चाहती हैं और समाज की सेवा करना चाहती हैं। रिया बताती हैं कि मेरी पढ़ाई में लाडली लक्ष्मी योजना से मिलने वाली छात्रवृत्ति का बहुत बड़ा योगदान रहा है। रिया अपने उज्जवल भविष्य के निर्माण के लिए मामा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को हृदय से धन्यवाद ज्ञापित करती है।