लीड ;महाराष्ट्र के कोल्हापुर मे हत्या करने वाला पांच साल से फरार आरोपी शेखर बहेलिया गिरफ्तार

7:23 pm or June 19, 2022
(दीपक शर्मा)
पन्ना १९ जून ;अभी तक; पंचायत व नगरीय निकाय चुनाव को नजर रखते हुए पुलिस अधीक्षक पन्ना धर्मराज मीना के द्वारा सभी थाना व चौकी प्रभारियों को स्थाई वारंटियों व फरार अपराधियों की धरपकड़ करने के निर्देश दिए गए है। जिसके तहत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पन्ना श्रीमति आरती सिंह व अनुविभागीय अधिकारी पुलिस अजयगढ अजय वाघमारे के निर्देशन पर अजयगढ़ थाना प्रभारी हरिसिंह ठाकुर के नेतृत्व में दिनांक 18/6/22 को मुखबिर द्वारा सूचना प्राप्त हुई की एक व्यक्ति संदिग्ध अवस्था में बगराजन माता मंदिर के पास घूम रहा है जिसकी तस्दीक हेतु थाना पुलिस की एक टीम रवाना की गई।
                 तस्दीक पर पाया गया की एक व्यक्ति जो अवैध कट्टा व कारतूस लिये हुये घूम रहा है संदिग्ध व्यक्ति शेखर बहेलिया पिता रतनलाल निवासी सुकमा थाना रीठी जिला कटनी का है जिसके द्वारा महराष्ट्र के सोलापुर मे हत्या की घटना मे शामिल था। जिस पुलिस द्वारा अभिरक्षा में लिया गया व्यक्ति बाहरी जिले का होने से उससे कड़ाई से पूँछताछ की गई। गिरफ्तार व्यक्ति ने बताया कि वह महाराष्ट्र प्रदेश के कोल्हापुर जिले में धारा 302 के अपराध में 5 वर्ष से फरार चल रहा है जिस पर महाराष्ट्र पुलिस द्वारा इनाम भी घोषित है उक्त व्यक्ति को अवैध कट्टा कारतूस लिए होने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया आरोपी का अपराध धारा 25- 27 आर्म्स एक्ट का होने से माननीय न्यायालय अजयगढ़ में पेश किया गया। जहां से माननीय न्यायालय द्वारा जेल भेजने की कार्यवाही की गई। उक्त कार्यवाही में थाना प्रभारी हरि सिंह ठाकुर उपनिरीक्षक भानू प्रताप सिंह, सहायक उपनिरीक्षक ब्रजमोहन सिंह, प्रधान आरक्षक आइमत सेन, बृषकेतू रावत, लक्ष्मी यादव, शंकर प्रताप सिंह, आरक्षक सर्वेन्द्र, प्रमोद पाल, तेजूलाल, कमलेश, अजीत यादव, धीरेंद्र, कृष्णकांत, सत्यवीर का सराहनीय योगदान रहा।
इनका है कहना-
———————
          आरोपी युवक महाराष्ट्र का रहने वाला है जो चार-पांच साल से राह रहा था।इसके ऊपर हत्या के  मामले वहाँ दर्ज बताए गए है जिसके चलते वह यहाँ आकर रहने लगा बताया है।इसके पास से कट्टा बरामद किया गया है।पुलिस अधीक्षक महोदय के निर्देशन में ओर अतिरिक्त पुलिस अधिक्षल एवं अनुविभागीय अधिकारी पुलिस के मार्ग दर्शन में आरोपी को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय में पेश किया गया जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।