वडाली ग्रापं प्रधान रेवली मर्सकोले 6 वर्षो तक चुनाव लडऩे से अयोग्य घोषित

मयंक भार्गव

बैतूल २८ अक्टूबर ;अभी तक; भ्रष्टाचार एवं आर्थिक अनियमितता के प्रकरणों में जिला पंचायत बैतूल के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एमएल त्यागी द्वारा कड़ा रवैया अख्तियार करने से भ्रष्टाचार करने वाले सरपंच सचिव सहित अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है। भ्रष्टाचार अनियमितता के प्रकरणों की विस्तृत सुनवाई के बाद मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं विहित प्राधिकारी जिला पंचायत बैतूल द्वारा ग्राम पंचायत के प्रधानों को पंचायत चुनाव से अयोग्य घोषित करने, प्रधान एवं पंचायत सचिवों के खिलाफ लाखों रूपए की वसूली अधिरोपित करने के लगातार आदेश जारी किये जा रहे है। जनपद पंचायत आठनेर अंर्तगत ग्राम पंचायत वडाली में मजदूरी भुगतान में हुए फर्जीवाड़े के बहुचर्चित  मामले की विस्तृत सुनवाई के बाद बैतूल जिला पंचायत सीईओ एवं विहित प्राधिकारी द्वारा 27 अक्टूबर को पारित अपने महत्वपूर्ण आदेश में ग्राम पंचायत वडाली में अनाधिकृत मजदूरी भुगतान एवं वित्तीय अनियमितता पाये जाने पर ग्राम पंचायत की प्रधान रेवली मर्सकोले एवं सचिव ओझा सिंह कुमरे से 89 हजार 606 रूपए की राशि मप्र भू राजस्व संहिता के प्रावधानों के अनुसार वसूल करने के लिए तहसीलदार आठनेर को आदेशित किया। विहित प्राधिकारी ने अपने आदेश में पंचायत राज अधिनियम की धारा 92 (5) के तहत आगामी 6 वर्षो तक की काल अवधि के लिए ग्राम पंचायत वडाली की प्रधान रेवली मर्सकोले को किसी भी ग्राम पंचायत या ग्राम निर्माण या ग्राम विकास समिति के सदस्य होने के लिए निरर्हित किया गया है।

स्वयं एवं महिला पंच के पुत्र-पुत्रियों को कियाथा मजदूरी भुगतान

उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायत वडाली की तात्कालीन सरपंच रेवली मर्सकोले एवं पंचायत सचिव ओझा सिंह कुमरे द्वारा सरपंच रेवली के पुत्र-पुत्री के खाते में 64 हजार 334 रूपए मजदूरी की राशि का अनाधिकृत भुगतान किया गया था। साथ ही महिला पंच वंदना धोटे के कॉलेज में पढऩे वाली दो बेटियों को कॉलेज में उपस्थित रहने की तिथी में मजदूरी करना दर्शाकर उनके बैंक खाते में 7 हजार 112 रूपए का अनाधिकृत भुगतान किया गया था। साथ ही ग्राम पंचायत वडाली की सरपंच सचिव द्वारा सीसी रोड निर्माण में मूल्यांकन से 17 हजार 960 रूपए अधिक राशि व्यय की गई थी।

उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायत वडाली में हुए फर्जीवाड़े वित्तीय अनियमितता को लेकर दैनिक राष्ट्रीय जनादेश में प्रमुखता से तथ्यात्मक खबरें प्रकाशित की गई थी। खबरों पर संज्ञान लेकर जिला पंचायत सीईओ बैतूल ने जनपद सीईओ आठनेर को विस्तृत जांच करवाकर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश दिये थे। जनपद सीईओ आठनेर के जांच प्रतिवेदन के आधार पर बैतूल जिला पंचायत सीईओ एवं विहित प्राधिकारी ने मप्र पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 की धारा 92 के तहत प्रकरण दर्ज कर विस्तृत सुनवाई करते हुए महज देढ़ माह में ग्राम पंचायत वडाली की तात्कालीन सरपंच एवं वर्तमान में प्रधान रेवली मर्सकोले तथा पंचायत सचिव ओझा सिंह कुमरे को मजदूरी के अनियमित अनाधिकृत भुगतान एवं वित्तीय अनियमितता का दोषी पाते हुए दोनों से समान रूप में 44 हजार 803 एवं 44 हजार 803 रूपए वसूली के आदेश पारित किए। साथ ही ग्राम पंचायत की प्रधान श्रीमति रेवली मर्सकोले को अधिनियम की धारा 92 (5) के तहत आगामी 6 वर्षाे तक की कालावधि के लिए किसी भी ग्राम पंचायत, ग्राम निर्माण समिति या ग्राम विकास समिति के सदस्य होने के लिए निरर्हित करने के भी आदेश जारी किए।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *