वनमंत्री को बैगा समाज ने अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन सोपा

10:37 pm or February 28, 2021
वनमंत्री को बैगा समाज ने अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन सोपा
मंडला से सलिल राय
मंडला २८ फरवरी ;अभी तक; मध्यप्रदेश के मण्डला जिले के कान्हा बाघ अभ्यारण्य केटीआर के किसली विश्राम गृह में अपनी विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन सोपा हैं बैगा आदिमजनजाती समाज विकास एवं कल्याण संघ के सांस्कृतिक प्रकोष्ठ अध्यक्ष सोन शाय बैगा ने जनपद पंचायत अध्यक्ष बिछिया राय सिंह कुरवेती ने  वन मंत्री  कुँवर विजय शाह से जनपद  अध्यक्ष जनपद पंचायत बिछिया राय सिंग कुरवेती एवं सोनसाय बैगा के  द्वारा मंडला जिले की पहचान के रूप में बैगा बैगिन फोटो भेंट स्वरूप दी गई।
                  इस दौरन जनपद अध्यक्ष बिछिया द्वारा मंत्री से  मुख्य मार्ग मोचा से बोड़ा छपरी तक सड़क मुर्मिकर्ण और मुख्य मार्ग आरोली से गुनेगांव सड़क मुर्मिकर्ण कार्य कराने की मांग किय जाने पर वनमंत्री द्वारा तत्काल विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि स्थल की जाँच करके कार्रवाई करें।.
                बैगा, आदिम जनजाति समाज, विकास एवं कल्याण संघ, मध्य प्रदेश   जिला -शाखा, मंडला किसली रेस्ट हाउस में 5 सूत्री मांगों को लेकर वन मंत्री को बैगा समाज ने अपनी ज्ञापन में कहा हैं कि
               वन अधिकार संसाधन अधिनियम 2006 बैगा हैबिटेट राइट सामुदायिक वन अधिकार प्रदान किया जाए,जिस प्रकार से मंडला विकासखंड के भंडारताल  मव ई विकासखंड रैयता खेरो बिछिया विकासखंड के मोहगांव को बैगा Habitat rights  में जोड़ा गया है  इस प्रकार से बिछियाविकासखंड के खटिया नारंगी को भी बैगा हैबिटेट राइट्स में सम्मिलित किया जाए  l
              बैगा, आदिम जनजाति के सर्वाधिक संख्या में वनांचल में निवास करते हैं ,एवं जंगली जड़ी बूटी के जानकार होते हैं  lतथा विलुप्त होने वाली जड़ी बूटी के जानकार होते हैं तथा इन औषधि से अपना इलाज कर लेते हैं  ,असाध्य बीमारियों के जानकार हैं इन्हें बैगा हाट बाजार के रूप में विकसित किया जाए , जिससे वह इन वन औषधियों के विक्रय कर जीवनयापन कर सकते हैं, अतः बैगा हाट बाजार की स्थापना कान्हा नेशनल पार्क खटिया नारंगी में किया जाए  l
           बैगा,    जनजाति आदिकाल से प्रकृति के साथ अपना जीवन यापन सभ्यता, संस्कृति,वेशभूषा,रिती-रिवाज परंपरा,आदिकाल से  प्रकृति पर निर्भर होकर जीवन यापन कर रहा है  । अतः खटिया नारंगी में सांस्कृतिक संग्रहालय की स्थापना की जावे  l
          बैगा,  जनजाति के उम्मीदवारों को भर्ती की प्रक्रिया के अनुसार किए बिना ही पूर्व वर्ष अनुसार 2015 के तहत वनरक्षक एवं चतुर्थ श्रेणी के पदों पर सीधे नियुक्ति प्रदान की जाए  l
            वनों से प्राप्त होने वाले संसाधनों का खटिया नारंगी में  वनोपज संग्रहण केंद्र की स्थापना की जावे, जिससे कि वनों से प्राप्त होने वाले इस संग्रहण केंद्र  के माध्यम से क्रय-विक्रय किया जा सके ।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *