वन विभाग द्वारा बनाई जा रही अवैध खखरी को लेकर गुस्से मे वनवासी, किया प्रदर्शन

1:53 pm or August 2, 2022

पन्ना संवाददाता

पन्ना २ अगस्त ;अभी तक; जिले मे वन विभाग की मनमानी चल रही है किसी भी शासकीय जमीन पर अपना कब्जा ठोक दिया जाता है तथा पचासो वर्षो से रह रहे ग्रामीणो की जमीनो से उन्हे बेदखल कर दिया जाता है, अनेक स्थानो पर वनवासीयों के मकान तक गिरा दिये गये। जिससे गरीब बनवासी खुले आसमान के नीचे रहने के लिए मजबूर है जबकी पैत्रिक रूप से गरीब लोग जंगलो मे सैकडो वर्षो से रह रहे तथा वहीं पर अपने जीवन यापन के लिए खेती कर रहे है लेकिन वन विभाग के अधिकारी उक्त गरीबो को रहने नही दे रहे है तथा उनके आशियाना तथा खेती की जमीन पर बाउन्ड्री बाल बनाकर अवेध रूप से कब्जा भी कर रहे है।

गरीबो की उक्त समस्या पर जिले के जन प्रतिनिधि भी कोई ध्यान नही दे रहे है सिर्फ वोट मांगने के लिए 5 वर्ष मे गरीबो के पास जाते है जबकी वन एवं राजस्व की जमीन का विवाद पचासो वर्षो से चला आ रहा है। राजस्व के अधिकारी किसी प्रकार की मदद भी गरीब बनवासीयों ने नही करते जिससे वन विभाग के अधिकारीयों की मनमाने जारी है।

इसी प्रकार मा मामला पन्ना जिला मुख्यालय से लगें महज 15 किलोमीटर दूर उत्तर वन मंडल के पन्ना रेन्ज के सकरिया का प्रकाश मे आया है। जहां पर ग्रामीणो की जमीनो पर वन विभाग द्वारा खखरी बनाकर कब्जा किया जा रहा है। जबकी ग्रामीणो द्वारा बकायदा पुराने दस्तावेज भी वन विभाग के अधिकारीयों को दिखाये जा रहे है उसके बावजूद उक्त ग्रामीणो के दस्तावेजो को वन विभाग के अधिकारी मानने के लिए तैयार नही है। जिससे वन विभाग तथा ग्रामीणो के बीच आये दिन विवाद की स्थिती बन रही है तथा कभी भी यह विवाद बडा रूप भी ले सकता है। क्योकि जर, जोडू, जमीन के लिए आदमी अपनी जान देने के लिए भी तैयार हो जाते है।