वर्तमान में आर्य समाज के सिद्धांतों की महती आवश्यकता – पं रमेश चंद्र

9:00 pm or November 17, 2020
वर्तमान में आर्य समाज के सिद्धांतों की महती आवश्यकता - पं रमेश चंद्र
महावीर अग्रवाल
मंदसौर १७ नवंबर ;अभी तक; आर्य समाज मंदिर मंदसौर की नवश्रंगारित यज्ञ शाला में महर्षि दयानंद सरस्वती निर्वाण दिवस एवं दीपावली पर्व धूमधाम से मनाया गया। यज्ञ के पश्चात् आर्य समाज के पुरोहित पं रमेश चंद्र राव ने कहा कि वर्तमान समय में स्वामी दयानंद जी के सिद्धांत की महति आवश्यकता है ।
           युवा यज्ञयाचार्य वैभव गुप्ता ने कहा कि महर्षि दयानंद ने समाज में व्याप्त कुरीतियों, पाखण्ड के उन्मूलनऔर महिलाओं के उत्थान का कार्य किया। आजादी की लड़ाई में भाग लेने वाले अस्सी प्रतिशत लोग आर्य समाजी थे। समाज के उपाध्यक्ष रविन्द्र शर्मा ने कहा कि स्वराज्य शब्द के प्रथम उदघोषक महर्षि दयानंद सरस्वती थे।
              अगर समाज को पाखण्ड से बचना है तो उसे सत्यार्थ प्रकाश अवश्य पढ़ना चाहिए । बहन सुधा कुर्मी ने सुमधुर भजन प्रस्तुत किए । इस अवसर पर समाज के यज्ञयाचार्य पं रमेश चंद्र राव एवं वैभव गुप्ता और बहन सुधा कुर्मी का स्वागत किया गया । इस अवसर पर गंगाधर शर्मा , गायत्री प्रसाद शर्मा , पंकज अग्रवाल , महेश शर्मा , भगवत शरण गुप्ता ,प्रमोद गुप्ता , डॉ वेद कुमारी शर्मा , श्रीमती रेणु गुप्ता , कुमुद शर्मा , नेहा शर्मा , श्रुति शर्मा ,समता गुप्ता ,संगीताचार्य रामलाल गंधर्व ,प्रकाश गंधर्व  आदि समाज जन उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन समाज प्रधान मधुसूदन आर्य ने किया आभार महेश शर्मा ने माना।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *