विद्यार्थियों को लगेगी को-वैक्सीन, हर विद्यालय से ली जाएगी विद्यार्थियों की जानकारी  

3:24 pm or January 1, 2022

मंडला संवाददाता

मंडला एक जनवरी ;अभी तक;  कोरोना के नए वेरीएंट ओमीक्रॉन की दस्तक के साथ ही कोरोना की संभावित तीसरी लहर के आने की आशंका बढ़ गई है। जिले के सबसे नजदीकी महानगर जबलपुर में भी ओमीक्रॉन के मरीज मिल चुके हैं। चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार, जिन लोगों को कोविड वैक्सीनेशन हो चुका है। उनमें संभावित तीसरी लहर का असर तुलनात्मक रूप से कम होगा। यही कारण है कि अब जिले में विद्यार्थियों को कोविड का टीकाकरण करने की तैयारी की जा रही है। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ वायके झारिया ने बताया कि जिले के उन सभी विद्यार्थियों को कोविड का टीका लगाए जाने की तैयारी की जा रही है जिनकी उम्र 15 वर्ष या उससे अधिक है। इसके लिए जिले के सभी शासकीय, अशासकीय, निजी विद्यालयों में पढऩे वाले विद्यार्थियों की जानकारी जुटाई जा रही है।

50 हजार का अनुमान

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ झारिया ने बताया कि जिले भर में 15 वर्ष से 18 वर्ष तक की उम्र के सभी छात्र-छात्राओं को टीका लगाए जाने की तैयारी की जा रही है। इनकी अनुमानित संख्या 50-60 हजार हो सकती है। जिले भर के विद्यालयों से वहां अध्ययनरत विद्यार्थियों की जानकारी ली जा रही है। इनमें वे छात्र-छात्राएं भी शामिल हैं जो शाला त्यागी हैं यानि किसी न किसी कारण से पढ़ाई छोड़ चुके हैं। ऐसे में शालात्यागी बच्चों को ढूंढना स्वास्थ्य विभाग के लिए चुनौती बन सकता है। शिक्षा विभाग की इसमें मदद ली जा सकती है।

सिर्फ कोवैक्सीन

डॉ झारिया ने बताया कि विद्यार्थियों को सिर्फ कोवैक्सीन के टीके लगाए जाएंगे। वैक्सीनेशन के लिए किसी भी छात्र-छात्रा के लिए आईडी आवश्यक नहीं होगी। स्कूल संंबंधी कोई आई कार्ड अथवा प्रमाणपत्र या फिर कक्षा दसवीं की मार्कशीट दिखाने पर ही उन्हें वैक्सीन की खुराक दी जाएगी। इसके लिए बिल्कुल आवश्यक नहीं होगा कि वे अब स्कूल में पढ़ते भी हैं या नहीं। डॉ झारिया ने बताया कि विद्यार्थियों को टीके लगाने के लिए कितने बूथ की स्थापना की जानी है यह शिक्षा विभाग से विद्यार्थियों की संख्या की जानकारी मिलने के बाद ही निर्धारित की जाएगी। अधिक संख्या में विद्यार्थी होने पर संबंधित स्कूल में ही सीवीसी यानि कोविड वैक्सीनेशन सेंटर की स्थापना की जाएगी। क्षेत्र में उपलब्ध विद्यार्थियों की संख्या के आधार पर ही बूथ स्थापित किए जाएंगे।