विधायक सिसौदिया का सुझाव बन गया नजीर, बस दुर्घटना के पीड़ितों का केस लड़ेगी सरकार

महावीर अग्रवाल

मंदसौर १ ंमार्च ;अभी तक; विधायक यशपालसिंह सिसौदिया द्वारा मध्यप्रदेश विधानसभा में दिया गया सुझाव नजीर बन गया । पिछले दिनो सीधी बस दुर्घटना में कालकवलित हुए नागरिकों का केस सरकार स्वयं लड़ेगी और इंश्योरेंस कंपनी से उनके परिवार को पुरी भरपाई मिले इसका प्रयास करेगी । सुझाव पर प्रदेश के परिवहन मंत्री गोविन्दसिंह राजपुत ने विधायक सिसौदिया की प्रशंसा की और आश्वस्त किया कि वे इस संवेदनशील मुद्दे पर मुख्यमंत्री से चर्चा करेंगे  और पीड़ित परिवारों की पुरी मदद सरकार करेगी ।

दरअसल सोमवार को मध्यप्रदेश विधानसभा में सीधी बस दुर्घटना को लेकर चर्चा शुरू हुई । जिसमे ंमंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने भी भाग लिया और सीधी की दुर्घटना को ह्दय विधारक बताते हुए दिवंगत आत्माओं श्रध्दांजली अर्पित की और कहा कि अपना भविष्य खोजने के लिए चयन परीक्षा और प्रशिक्षण के माध्यम से अपना भविष्य खोजने के लिए जा रहे युवा बाण सागर नहर में कालकवलित हो गए 28 पुरूष, 23 महिलाएें और 3 बच्चों समेत 54 लोगों की मृत्यु हो गई । प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने इस घटना को गंभीरता और संवेदनशीलता के साथ लेते हुए प्रारंभिक रूप से निलंबन की कार्यवाही की । इससे पहले सेंधवा में हुए बस काण्ड के बाद सरकार ने परिवहन नीति में बदलाव किया था, शासन पुरी तरह से गंभीर है दुर्घटना में जो लोग कालकवलित हुए है उनके परिवार को स्थाई रोजगार मिले इसके लिए भी प्रयास हो रहे है लेकिन जिस बस से दुर्घटना हुई है उसका बीमा था ऐसे में कालकवलित हुए परिवारों को बीमा कंपनी द्वारा बीमा क्लेम मिलना चाहिए इसके लिए क्लेम केस लड़ने के लिए सरकार व्यवस्था करें चाहे एक वकील लगे या दो लगे या फिर दस लगे परिवार पुरी ताकत के साथ क्लेम केस लड़ सके इसकी पुरी व्यवस्था सरकार को करनी चाहिए क्योंकि मामला जब न्यायालय में जाता है तो बीमा कंपनियां बचने की कोशिश करती है ऐसे में कालकवलित हुए लोगों की परिवारों की आर्थिक स्थिति देखते हुए यह संभव नही है कि वह वकील की फीस दे सकेंगे और ताकत से क्लेम का केस लड़ सकेगें ।

श्री सिसौदिया की बात पर परिवहन मंत्री गोविन्दसिंह राजपुत ने आश्वस्त किया कि पीड़ित परिवारों की सरकार हर संभव मदद करेंगी । उन्होने विधायक सिसौदिया के सुझाव पर प्रशंसा व्यक्त की और कहा कि वाकई मेंमृतक के परिवार बहुत गरीब है वे इस स्थिति में नही कि इंश्योरेंस क्लेम के लिए वकील खड़ा करें । मैं आश्वस्त करता हुं कि इस महत्वपूर्ण विषय को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के समक्ष रखूंगा । सरकार संवेदनशीलता दिखाते हुए उन परिवारो के केस स्वयं लड़े उनके लिए वकील खड़ा करें, मुआवजे की राशि अधिक से अधिक मिले यह हम सब की भावना होनी चाहिए और इस पर जल्द निर्णय करेंगे ।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *