विधिक अधिकारों की जानकारी के साथ उक्त अधिकारों का उल्लंघन होने पर उपचार हेतु मंच की जानकारी आवश्यक – मो. रईस खान

6:47 pm or January 7, 2022
महावीर अग्रवाल
  मन्दसौर ७ जनवरी ;अभी तक;  राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एवं म.प्र. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर के निर्देशानुसार तथा श्रीमान् अनीष कुमार मिश्रा, प्रधान जिला न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मंदसौर के मार्गदर्शन में दिनांक 07.01.2022 को ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान, मंदसौर में विधिक साक्षरता शिविर सम्पन्न हुआ।
                     जिला न्यायाधीश/सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण मंदसौर श्री मो. रईस खान द्वारा सर्वप्रथम विधिक सेवा प्राधिकरण, की संरचना से अवगत कराते हुए बताया कि इस संस्था का गठन राष्ट्रीय स्तर से लेकर तहसील स्तर तक समाज में विधिक सेवा प्रदान किये जाने हेतु किया गया है। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 39ए की मंशानुरूप प्रत्येक व्यक्ति तक न्याय की पहुंच हो, इसके लिए विधिक सेवा प्राधिकरण, सदैव तत्पर है। तत्पश्चात् श्री खान द्वारा विधिक सेवा प्राधिकरण अधिनियम 1987 अंतर्गत विधिक सेवा प्राप्त करने के हकदार व्यक्तियों की जानकारी प्रदान की एवं बताया कि विधि द्वारा हमें जो विधिक अधिकार प्रदान किये गये हैं उनकी जानकारी होने के साथ-साथ यह भी आवश्यक है कि उक्त विधिक अधिकारों के उल्लंघन होने पर उपचार हेतु किस मंच के माध्यम से इन्हें प्रवर्तित कराया जा सकता है। साथ ही वर्तमान में बढ़ते हुए नशे के प्रयोग के कारण होने वाली शारीरिक, मानसिक, आर्थिक व पारिवारिक हानि की ओर ध्यान अवगत कराते हुए बताया कि नशा समाज की सबसे बड़ी बुराई है। अंत में श्री खान द्वारा प्रशिक्षणार्थीगण द्वारा पूछे गये विधिक प्रश्नों का उत्तर देकर उनकी जिज्ञासाओं को शांत किया।
                 ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान के संचालक श्री महावीर कुमार जैन द्वारा संस्था में दिये जाने वाले प्रशिक्षण संबंधी जानकारी दी एवं उपस्थित प्रशिक्षणार्थीगण को शिविर में दी जा रही विधिक जानकारी एवं विभिन्न योजनाओं का लाभ लिये जाने के संबंध में बताया। साथ ही समय-समय पर विधिक साक्षरता शिविरों के माध्यम से संस्था के प्रशिक्षणार्थीगण को विधिक रूप से जागरूक किये जाने हेतु अपील की गई।
                      जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री योगेश बंसल द्वारा प्रत्येक कार्यदिवस शनिवार को आयोजित होने वाली लोकोपयोगी लोक अदालत के प्रावधानों से अवगत कराया और बताया कि उक्त लोक अदालत के माध्यम से प्रकरणों के निराकरण में किसी प्रकार की कोई फीस या वकील की आवश्यकता नही होती है। अतः उक्त लोकोपयोगी लोक अदालत से संबंधित विषयों में  मामलों का निराकरण किये जाने हेतु अपील की।
                       कार्यक्रम का संचालन संस्था के अध्यापक श्री राजेश जोशी द्वारा किया गया एवं आभार संचालक श्री महावीर कुमार जैन द्वारा माना गया। उपरोक्त अवसर पर श्री अवधेश कुमार दीक्षित, श्रीमती बरखा सुरागी, विधि विद्यार्थी श्री अनमोल जैन, संस्था का स्टॉफ व प्रशिक्षणार्थीगण उपस्थित रहे।