विश्व पर्यावरण दिवस पर जिला जेल में हुआ पौधारोपण और योगा

महावीर अग्रवाल 

मंदसौर। ५ जून ;अभी तक;  जून को स्थानीय जिला जेल में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए पौधारोपण के साथ ही कोरोना से बचाव के लिए निरुद्ध भाइयों को पतंजलि योग संगठन जिलाध्यक्ष योग गुरु बंसीलाल टांक द्वारा योगाभ्यास कराया गया। साथ ही ब्रह्माकुमारी समिता बहन के परम तत्व में लीन होने पर उनके चित्र पर पुष्प समर्पित कर हार्दिक श्रद्धांजलि दी गई।

योग कराते हुए श्री टांक ने कोरोना से बचाव एवं कोरोना होने पर श्वसन क्रिया को संतुलित करने के लिये मुख्य प्राणायाम भस्त्रिका, कपालभाति, अनुलोम-विलोम, उज्जायी, भ्रामरी उद्गीथ के साथ ही सूक्ष्म व्यायाम और योगीक, जोगीक व्यायाम कराया जिसमें निरुद्ध भाइयों ने बड़ा उत्साह दिखाकर अभ्यास किया।

इस अवसर पर उपस्थित ब्रह्माकुमारी उषा बहन ने पर्यावरण के प्रदूषित होने पर भारी चिंता प्रकट करते हुए कहा कि जिस विशुद्ध पर्यावरण को ही जीवन कहा जाता था उस पर्यावरण, प्रकृति के साथ खिलवाड़ कर, जंगलों को काटकर तहस-नहस कर एक प्रकार से हमने अपने स्वयं का ही जीवन समाप्त करना शुरू कर दिया है और उसका दुष्परिणाम हम अनेक बिमारियों जिनमें कोरोना भी सम्मिलित है, भुगत रहे है। पर्यावरण को बचाना है, स्वयं को स्वस्थ, सुरक्षित रखना है तो हमें प्रकृति को अपनाना होगा, जिसके लिये अधिक से अधिक पौधारोपण करना होगा।

शारदा बहन इंदौर ने निरुद्ध भाइयों को पुनः सुधार घर में पड़े इस हेतु ऐसा कोई भी कार्य नहीं करने और इसके लिए हमेशा ध्यान और योग करते रहने के लिए समझाइश दी गई।

जेलर श्री पी के सिंह ने कहा कि समय-समय पर जिला जेल में  समिता बहन के द्वारा निरुद्ध भाइयों के कल्याण के लिए और परिवार की खुशहाली के लिए जिस प्रकार समझाइश के साथ मार्गदर्शन दिया जाता रहा है वह सदैव स्मरणीय रहेगा। आपने योग गुरु बंसीलाल टाक द्वारा कोरोना से बचाव तथा भविष्य में किसी भी प्रकार की बीमारी से ग्रसित न हो इसके लिए जो योग बताया है उसका नित्य अभ्यास करते रहने के लिए कहा।

प्रारंभ में दीपेश भाई ने  समिता बहन का जीवन पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम के समापन पर 2 मिनट मौन रहकर समीता बहन को श्रद्धांजलि दी गई। संचालन पत्रकार अनिल संगवानी ने किया। कार्यक्रम में जेल स्टाफ भी उपस्थित थे।