विस्थापन राशि को लेकर बांध प्रभावितों ने कलेक्टर की गाड़ी को घेरा ,आश्वासन के बाद कलेक्टर भागे

11:37 pm or November 20, 2022

दीपक शर्मा

पन्ना २० नवंबर अभीतक

विश्रामगंज के सैकड़ों बांध प्रभावितों ने कलेक्ट्रेट का घेराव कर सात सूत्रीय मांगों के संबंध में ज्ञापन सौंपा है, बताया गया है कि पांच मजरा के रूंझ मध्यम परियोजना अंतर्गत मकान कृषि भूमि समेत सम्पूर्ण ग्राम का अधिग्रहण किया जा चुका है, बांध निर्माण पूर्ण होने वाला है, पर अभी कुछ प्रभावितों को कृषि भूमि व घरों का मुआवजा नहीं दिया गया है। ना ही विस्थापन राशि दी गई, निर्माण पूर्ण होने पर गांव में पानी भरने से ग्रामवासी बेघर बिना आय और बिना साधन के हो जायेंगे। 02 अक्टूबर 2022 को ग्राम सभा में निर्णय लिया गया कि हमारी ग्राम पंचायत विश्रामगंज को भी समाप्त कर नई ग्राम पंचायत आरामगंज बना दी गयी है। मांग की गई है कि भू-अर्जन अधिनियम 2013 अनुसार सम्पत्ति व पुर्नव्यवस्थापन समेत अन्य राशि बाँध निर्माण होने के पूर्व प्रदान की जाये। घरों का पुनः मूल्यांकन भौतिक स्थिति अनुसार नियमानुसार किया जाये।

पुर्नव्यवस्थापन परिवार की गणना वर्ष 2022 के अनुसार की जाये। जो कृषि भूमि नदी किनारे हैं एवं स्वयं द्वारा सिंचित है सिंचित का मुआवजा दिया जाये। वृक्ष, कुआ, नलकूप, मेड, बंधान, पार आदि सम्पत्ति का मूल्यांकन कर मुआवजा प्रदान किया जाये। ग्राम की 90 प्रतिशत जनसंख्या आदिवासी है, जिससे ग्राम को आदिवासी ग्राम घोषित करें, अनुसूचित जनजाति कल्याण अधिनियम के प्रावधानों का लाभ दिलाया जाये। कलेक्टर की अध्यक्षता से 5 सदस्यों कमेटी बनाई जाये जिसके अनुसार पुर्नव्यवस्थापन राशि व अन्य सहायता प्रदान की जावे।