शनिवार को शिवना शुद्धिकरण अभियान में श्रमदान के लिये उमड़ा जनसैलाब

6:01 pm or June 4, 2022
महावीर अग्रवाल
मन्दसौर ४ जून ;अभी तक;  श्रमदान के लिए जनसैलाब उमड़ा, हर शिवना प्रेमी शिवना भक्त की एक ही तमन्ना हमारा श्रमदान माँ स्वीकार करें। शनिवार को शिवना शुद्धिकरण का अभियान ऐतिहासिक रहा। भारी मात्रा में मां शिवना को साफ और स्वच्छ रखने के लिए श्रमदान करने वालों की होड़ मच गई। शिवना तट पर ऐतिहासिक जनसैलाब श्रमदान के लिए हर व्यक्ति तगारी उठाने के लिए चेहरे पर उत्साह उमंग के साथ जय घोष करते हुए श्रमदान किया।
                  शनिवार को मध्यप्रदेश विद्युत मंडल के 100 से अधिक अधिकारी एवं कार्यकर्ता, पोरवाल समाज के सैकड़ों की तादात में समाजजन, वैश्य महासम्मेलन के सैकड़ों साथियों के साथ मातृशक्ति भी उत्साह उमंग के साथ भागीदारी करते हुए मन में भगवान पशुपतिनाथ व सहस्त्र शिवलिंग महादेव के समीप यह शिवना कल कल बहती रहे इस भावना के साथ अपना समयदान व श्रमदान किया।
                      इस अवसर पर पोरवाल समाज के जगदीश चौधरी ने कहा कि हम परम सौभाग्यशाली हैं विश्व विख्यात भगवान पशुपतिनाथ एवं सहस्त्र शिवलिंग महादेव की उद्गम नदी को साफ और स्वच्छ रखने के लिए भोलेनाथ ने हमें इस लायक बनाया कि आज हम तगारी उठाकर शिवना के आंचल को साफ स्वच्छ रखने के लिए तट पर उपस्थित हुए है। पोरवाल समाज के सभी साथियों ने डेढ़ घंटे तक श्रमदान किया और शिवना कल कल बहे इसके लिए भगवान पशुपतिनाथ से प्रार्थना करते हुए प्रतिवर्ष आने का संकल्प लिया। शिवना के लिए सभी के मन में भारी उत्साह था।
                 वैश्य महासम्मेलन के नरेंद्र अग्रवाल ने अपने समाजजनों को साथ लेकर प्रत्येक नगर के सामाजिक कार्यों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने के साथ ही प्रत्येक सेवा कार्य में वैश्य समाज की भागीदारी आगे होकर करने वाले के लिए सभी समाजजनों को धन्यवाद देकर शिवना के लिए तन मन धन से सहयोग करने का संकल्प लिया और इस शिवना मां के लिए यही मन में अभिलाषा ली है हम सतत सेवा कार्य में आगे बढ़ते रहेंगे।
               मध्यप्रदेश विद्युत मंडल के अधिकारियों के साथ समस्त कर्मचारियों ने सही समय पर पहुंचकर एक ही उत्साह कि हम नौकरी के साथ समाज के प्रत्येक सेवा कार्य में अपनी हिस्सेदारी करना चाहिए। हम धन्यवाद प्रशासन को देते हैं कि हमारे द्वारा यह पुनीत कार्य हमसे करवाया जा रहा है। मध्यप्रदेश विद्युत मंडल के दशरथसिंह चंद्रावत ने अपने विचार श्रमदान करने वाले को को देते हुए कहा की शिवना के अंदर गंदे नाले रोकने का हम स्थाई समाधान प्रशासन से प्रार्थना करके भविष्य में यह जल साफ और स्वच्छ रहेगा। इसके लिए हम कार्य करते रहेंगे। मैं अपनी और से यही प्रार्थना करता हूं कि श्रमदान जीवन का मुख्य आधार होना चाहिए। यह श्रमदान भगवान पशुपतिनाथ के द्वारा संचालित है इसमें वही व्यक्ति पहुंच पाता है जिसको भगवान पशुपतिनाथ महाकाल मां शिवना चुनती है। हर कोई इस तट पर पहुंच नहीं सकता। इस शिवना के महा अभियान में जो प्रतिदिन आकर श्रमदान कर रहे हैं वह एक प्रेरणा स्त्रोत है। इसमें 84 वर्ष घनश्याम भावसार, 80 वर्ष के बंसीलाल टाक जैसे व्यक्तियों से प्रेरणा लेना चाहिए। किसी कार्य के परिणाम कार्य करने से आते हैं यह हमारा दायित्व होता है कि हम उस कार्य की भागीदारी बने विरोधी नहीं। आज के दिन विद्युत विभाग के श्री सुधीर जी आचार्य अधीक्षण यंत्री मंदसौर, श्री मणि शंकर मणि सहायक यंत्री शहर मंदसौर, श्री प्रेम प्रकाश पालीवाल कार्यपालन यंत्री मंदसौर, श्री ओ पी सेन कार्यपालन यंत्री सीतामऊ, श्री अनिल पाटीदार सहायक यंत्री चंद्रपुरा, दशरथ सिंह चंद्रावत, राजेंद्र कुमार  चाष्टा,भगवानदास विजयवर्गीय,अनिल पाटीदार कार्यपालन यंत्री,मनोज पटेल,देवेंद्र शर्मा,अंकित काल ,राहुल चाष्टा,मनमोहन पालीवाल ने श्रमदान किया।
                  विश्व पर्यावरण दिवस आज 5 मई संध्या 6 बजे शिवना के बीच मध्य में बैठकर विश्व के साथ ही मंदसौर नगरी के पर्यावरण को अच्छा बनाने के लिए पूरे क्षेत्र में पौधे लगाना गंदगी मुक्त रखना और प्रत्येक जन्म दिवस स्मृति दिवस पर वृक्षों को लगाकर मनाने की शपथ ली जाएगी। भगवान पशुपतिनाथ के चरणों में मां शिवना के तट पर अद्भुत विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का संकल्प लिया जाएगा। शिवना की पुरानी पुलिया पर कुर्सियां लगाकर संध्या 6 बजे जो भी शिवना के श्रमदान में आ रहे हैं वह अपनी कैप और टी शर्ट पहन कर शिवना तट पर पहुंचेंगे। नगर की जनता से प्रशासन ने आह्वान किया है अधिक से अधिक संख्या में संध्या 6 बजे शिवना पर पहुंचे। उक्त जानकारी सत्येन्द्रसिंह सोम ने दी।