शहड़ोल पुलिस की बेहतरीन कार्यशैली को मुख्यमंत्री ने भी सराहा

9:39 pm or May 7, 2022
मोहम्मद सईद
शहड़ोल 7 मई अभी तक। शहड़ोल पुलिस की बेहतरीन कार्य शैली का डंका संभाग ही नहीं पूरे प्रदेश में बज रहा है। शहडोल पुलिस की त्वरित और बेहतरीन कार्यशैली को अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर सराहा है। दो बैंक में डकैती के प्रयासों को विफल करने के शहडोल जिले की पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही की सराहना करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया है कि ऐसे कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी ही मध्य प्रदेश की शान है। बधाई एवं शुभकामनाएं
इस तरह विफल हुई थी बड़ी वारदात
बीटी 24-25 अप्रैल की दरमियानी रात्रि बुढार के दो बैंकों में अन्तर्राजीय बैंक डकैत बैंक में सेंधमारी कर घुसे थे। जिसे बुढार पुलिस के जांबाज कर्मचारियों
एसआई वर्षा बैगा, आरक्षक धन्ना लाल सोलंकी वाह आरक्षक परिमल सिंह ने सुखबूझ का परिचय देते हुए न सिर्फ डकैती को नाकाम कर दिया था बल्कि डकैतों से मुठभेड़ के बाद गिरोह के एक सदस्य को गिरफ्तार भी कर लिया था।
पुलिस की तहकीकात में पता चला कि बैंक में डकैती डालने वाला यह गिरोह पश्चिम बंगाल के मालदा से यहां पहुंचा था। गिरोह का सरगना हसन चिकना इससे पूर्व कई वारदातों को अंजाम दे चुका है।
प्रकरण में गिरफ्तार किये गए आरोपी हसन शेख से उसकी असली पहचान और उसके
अन्य साथियों के बारे में जानकारी एकत्र करने के लिए एक विशेष टीम गठित कर उससे पूछताछ की गई तो पूछताछ के दौरान आरोपी ने अपने साथ घटना में आरोपी अकबर शेख पिता सादिक
शेख निवासी ग्राम जौहरपुर थाना इंग्लिश बाजार जिला मालदा पश्चिम बंगाल, गुड्डू उर्फ तारिक
अहमद निवासी ग्राम सिदपुर पोस्ट आदरचक थाना डुमरिया जिला गया बिहार एवं राजू अंसारी उर्फ
चिंटू निवासी ग्राम सिदपुर पोस्ट आदरचक थाना डुमरिया जिला गया बिहार के साथ मिलकर घटना
को अंजाम देना स्वीकार किया। आरोपी से विस्तृत पूछताछ में पश्चिम बंगाल से बुढ़ार आने एवं इन्हीं
बैंक में चोरी करने की बात पूछी गई तो काफी चौंकाने वाले तथ्य प्रकाश में आये जिससे मालूम हुआ
कि बुढ़ार के वार्ड नं. 07 अम्बेडकर नगर में रहने वाले रहीश अंसारी पिता सब्बन अंसारी जो मूलतः
ग्राम रतौली थाना लहरपुर जिला सीतापुर उप्र का रहने वाला है जो यहां रहकर फेरी का सामान बेचने
का काम करता है, के द्वारा आरोपी हसन को बुढ़ार में बुलाकर 05 दिनों तक अपने घर
बैंक की रैकी करवाई। रैकी के दौरान बैंक में अंदर जाने के लिए रहीश अंसारी ने आरोपी हसन
चिकना का फर्जी आधार कार्ड सुल्तान आमिर के नाम से बनवाया और इसी आधार पर यूनियन बैंक
ऑफ इंडिया में, जहां स्वयं रहीश का भी खाता है, आरोपी का खाता खुलवाने के नाम पर बैंक के
अंदर विस्तृत रैकी की गई। 05 दिनों की रैकी के बाद आरोपी हसन, रहीश अंसारी और उसके साथ
रखा और अपने अन्य साथी राजू अंसारी और अकबर शेख के साथ बस एवं ट्रेन से शनिवार 24 अप्रैल को सुबह बुढ़ार पहुंच जाते हैं और शनिवार की रात्रि को ही पूर्व की रैकी के आधार पर यूनियन
बैंक ऑफ इंडिया में पीछे के रास्ते से प्रवेश कर सर्वप्रथम सीसीटीव्ही कैमरे के कनेक्शन को काटा गया फिर बैंक लॉकर के मेन गेट पर लगे अलार्म को एवं अन्य अलार्म को भी काटा गया। उसके बाद 6
गैस सिलेन्डर एंव कटर के माध्यम से रविवार दिनांक 25 अप्रैल  के सुबह 4.30 बजे तक काटने का
प्रयास किया गया। जिसमें सफलता नही मिलने पर सुबह 04.30 बजे सभी लोग बैंक से बाहर आ गये
और रविवार का पूरा दिन अनूपपुर रेल्वे स्टेशन पर बिताया गया। आरोपियो द्वारा रविवार की रात
लगभग 10 बजे पुनः बैंक में प्रवेश कर पडोस में स्थित पंजाब नेशनल बैंक में जाने के लिए दीवार
में सेध लगा रहे थे। पुलिस के गश्ती दल द्वारा बैंक को चेक किये जाने के दौरान अन्दर से आने
वाली आवाज के आधार पर जब पुलिस पार्टी पीछे की तरफ से बैंक के अन्दर के बदमाशो को घेरने
लगी तभी आरोपी तत्काल ही बैंक के अन्दर से निकल कर सीढी से बाहर आकर अंधेरे का लाभ
उठाकर फरार होने में सफल हो गये किन्तु दोनो आरक्षको के द्वारा एक आरोपी हसन शेख उर्फ हसन
चिकना को रंगेहाथ गिरफतार कर लिया।
आरोपी द्वारा भागने के दौरान पुलिस गश्ती दल के आरक्षक धन्नालाल सोलंकी पर अपने
पास रखे कट्टे से फायर भी किया गया था किन्तु आरक्षक द्वारा जान की परवाह न करते हुए उसे
दौड़कर पकड़ा गया। जिस पर से आरोपी के विरूद्ध हत्या के प्रयास का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना
में लिया गया।
कई राज्यों में दर्ज है अपराधिक रिकॉर्ड
मामले की गंभीरता को देखते हुए आरोपियो की पहचान स्थापित करने हेतु पश्चिम
बंगाल पुलिस से समन्वय स्थापित किया जाकर, एक विशेष टीम गठित कर आरोपियों की गिरफतारी
के प्रयास किये गये। प्रकरण की विवेचना के दौरान समस्त राज्यो से आरोपी के आपराधिक रिकार्ड
शहडोल पुलिस द्वारा खंगाले गये। जिस पर आरोपी के विरुद्ध मध्य प्रदेश सहित, पश्चिम बंगाल,
झारखंड, उत्तर प्रदेश में कुल 16 अपराध पंजीबद्ध होना पाया गया।
10 हजार के इनाम से नवाजा
उक्त बैंक में चोरी के आरोपी को रंगेहाथ गिरफ्तार करने वाले गश्ती दल के उप निरीक्षक सुश्री वर्षा बैगा, आरक्षक धन्नालाल सोलंकी, आरक्षक परिमल सिंह की विशेष भूमिका रही, जिन्हे अतिरिक्त
पुलिस महानिदेशक शहडोल झोन दिनेश चंद्र सागर द्वारा 10-10 हजार रूपये के नगद ईनाम से
पुरूस्कृत किया गया है।