शासकीय गृह विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय में युवा उत्सव के तृतीय दिवस भी विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन

6:40 pm or December 24, 2021
सौरभ तिवारी
होशंगाबाद २४ दिसंबर ;अभी तक; शासकीय गृह विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय में युवा उत्सव के तृतीय दिवस भी विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इन प्रतियोगिताओं में एकल गायन शास्त्रीय, एकल गायन सुगम, एकल गायन पश्चात्य, समूह गायन पश्चात्य, समूह गायन भारतीय, वादन परकुशन, वादन नान परकुशन, एकल नृत्य शास्त्रीय, समूह नृत्य शास्त्रीय का आयोजन किया गया।
                    युवा उत्सव में आयोजित एकल गायन शास्त्रीय में प्रथम स्थान पर कुमारी सिद्धा संाई एवं द्वितीय स्थान पर मनीषा व्यास रही। एकल गायन सुुगम में प्रथम स्थान पर आशिमा शाह द्वितीय स्थान पर मनीषा व्यास एवं तृतीय स्थान पर शिवानी एवं सौम्या कौशिक रहीं। एकल गायन पाश्चात्य में भानुप्रिया प्रथम रही। समूह गायन पश्चात्य में प्रथम भानुप्रिया एवं समूह, द्वितीय स्थान पर मनीषा व्यास एवं श्रेया शुक्ला समूह रहा। समूह गायन भारतीय में प्रथम स्थान पर सिद्धा साईं एवं समूह रहा। एकल नृत्य में प्रथम श्रुति पटवा, द्वितीय कुमारी निधि गौर एवं तृतीय स्थान पर रिया मेहरा रही। समूह नृत्य में प्रथम चेतना एवं समूह द्वितीय स्थान पर तनीषा तिवारी एवं समूह एवं तृतीय स्थान पर राधिका एवं समूह रहा।
                    महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. श्रीमती कामिनी जैन ने छात्राओं को शुभकामनाएं देते हुए अपने उद्बोधन में कहा कि प्राचीन काल से ही संगीत चिकित्सा पद्धति की जाती रही है। संगीत चिकित्सा पद्धति विभिन्न रोगों से ग्रस्त रोगी को रोग मुक्त एवं तनाव रहित करने में बड़ी कारगर सिद्ध होती है। शासकीय गृह विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय जिले का एकमात्र ऐसा महाविद्यालय है जिसमें संगीत विभाग है संगीत विभाग के प्राध्यापक श्री प्रेमकांत कटंगकार एवं श्री रामसेवक शर्मा को शुभकामनाएं देते हुए प्राचार्य महोदया ने कहा कि संगीत विभाग के सहयोग से छात्राओं ने युवा उत्सव में बढ़-चढ़कर सहभागिता की।
                डॉ. जैन ने बताया कि संगीत, गीत, नृत्य आदि वैदिक पद्धति पर आधारित कला है, जो मानव के विकास यात्रा को पल्लवित एवं पोषित करती हैं। संगीत हमारे मन, मस्तिष्क को शांत करता है शांत मस्तिष्क में उन्नत एवं विकासशील विचारों का रोपण होता है। छात्राओं नें इन 22 विधाओं में सहभागिता कर अपनी कला का प्रदर्शन किया। प्राचार्य महोदया ने मोहित दुबे जी के सहयोग की सराहना की।
                युवा उत्सव प्रभारी डॉ संध्या राय ने विजेता छात्राओं का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि अगले स्तर पर अपनी प्रतिभा एवं क्षमताओं का प्रदर्शन कर महाविद्यालय का नाम रोशन करें।
                    इस अवसर पर डॉ पुष्पा दुबे डॉ किरण पगारे डॉ. संगीता अहिरवार डॉ. पी.आर.    मान कर श्री कैलाश डोंगरे, डॉ. हर्षा चचान,े डॉ. कंचन ठाकुर डॉ. रामबाबू मेहर डॉ. सी.एस. राज डॉ. दीपक अहिरवार, डॉ. रागिनी सिकरवार, डॉ. मनीषा तिवारी, डॉ. विजया देवासकर, श्री अजय तिवारी, डॉ दशरथ मीणा, डॉ. निशा रिछारिया, डॉ. कीर्ति दीक्षित डॉ. नीतू पवार शीतल मेहरा, अंकिता तिवारी, सौम्या चौहान, चारु तिवारी, श्वेता वर्मा, शुभम भद्रे, दीपिका राजपूत, डॉ. श्रद्धा गुप्ता, श्री धीरज खातरकर, श्री आशीष सौहगोरा, डॉ मनीष चंद्र चौधरी, डॉ. रीना मालवीय, महाविद्यालय परिवार एवं भारी संख्या में छात्राएं उपस्थित रहे।