शिवना मां के प्रति आस्था रखने वाले प्रत्येक श्रमदानी का कलेक्टर ने आभार माना

5:53 pm or June 19, 2022

महावीर अगराल

मंदसौर १९  जून ;अभी तक;  मां शिवना के प्रति जिसने भी शिवना तट पर आकर जो आस्था और विश्वास के साथ श्रमदान करते हुए साफ और स्वच्छ रखने के लिए एक लंबी यात्रा 32 दिवस की पूर्ण करते हुए। जिसका 21 जून को इस महाअभियान की पूर्णाहुति शिवना तट पर करने का संकल्प लिया गया है वह पल भी ऐतिहासिक होगा। योग दिवस के दिन हम स्वस्थ रहते हुए राष्ट्र के समस्त कार्यक्रमों में अपनी भागीदारी करते रहें ऐसा आशीर्वाद भी प्राप्त करेंगे ।

कलेक्टर गौतम सिंह ने बड़े श्रद्धा के साथ मंदसौर नगर के साथ ही आसपास के क्षेत्रों से पधारे प्रत्येक समाज सेवी संगठन, प्रत्येक प्रशासकीय विभाग के कर्मचारी-अधिकारी जिन्होंने मां शिवना के लिए तगारी उठाकर, मन में साफ साफ रखने का संकल्प लेकर जो कार्य किया है उसके लिए शासन की तरफ से कलेक्टर महोदय ने धन्यवाद और आभार दोनों माने हैं। उन्होंने कहा है कि मीडिया के भाइयों ने इस स्वच्छता एवं शुद्धिकरण के आंदोलन को जन जन तक पहुंचाने में बहुत ही शिद्दत के साथ कार्य किया है हमारे प्रयासों में जो कमी रह गई है हम उसको पूरा करने के लिए आप लोगों के विचार हम सतत लेते रहेंगे बिना पद और सम्मान के जो सतत शिवना तट पर आते रहे उनका हृदय से आभार मानते हैं जिन्होंने 1 दिन भी छुट्टी न करते हुए अपना मुख्य कार्य मानते हुए भगवान पशुपतिनाथ सहस्त्र शिवलिंग शिवना मां का आशीर्वाद उन्हें अवश्य मिलेगा । इस अभियान की पूर्णता उन सभी सेवाभावी कार्यकर्ताओं के दम पर पूर्ण हुई है जिसका परिणाम सुखद रहा है। नदी के अंदर से एक तगारी गंदगी भी बाहर निकाली गई है उसके स्थान पर जल अवश्य एकत्र होगा। जल पर हम और कार्य करेंगे।

32 वें दिवस के श्रमदान पर अनीता दीदी ने पहुंचकर मां शिवना के इस अभियान में जिसने भी श्रमदान किया है उन्हें धन्यवाद दिया । आपने 1 घंटे तक श्रमदान करते हुए यह कहा कि इस शिवना को गंदा भी हमने किया है शिवना पहले स्वच्छ और साफ थी। यह गंदी तो गंदे नालों से हुई है इन्हें रोका जाना चाहिए । एडवोकेट विजय परदेशी, गोपाल शर्मा ने कहां की परम सौभाग्यशाली हैं हम लोग जहां भगवान प्रकट हुए हैं । उस स्थल को साफ स्वच्छ रखने का मौका हमें दिया गया है। इसके लिए प्रत्येक जन्म हमको ऐसे कार्य करने का अवसर मिलता रहे । 32 दिवस की लंबी यात्रा श्रमदान की पूरी करने वाले मुख्य मनीष भावसार, हरिशंकर शर्मा, अरुण गोड, राजाराम तंवर, अजीजउल्ला खान खालिद, सुनीता भावसार, सीमा चौरडिया, बंसीलाल टाक, अनिल मालीवाल, शिवेंद्र प्रताप सिंह, रविंद्र बेस, लालबहादुर श्रीवास्तव, पंकज परमार, शंभू सेन राठौड़, जितेंद्र वासवानी, नोडल अधिकारी सुनील व्यास, आरसी तोमर, डॉ जे के जैन जिन्होंने इस अभियान को हृदय से पूर्ण करने के लिए सतत सेवा देते हुए एक यही सपना की शिवना आज नहीं तो कल कल-कल अवश्य बहेगी ।हम प्रतिवर्ष इस तट पर आकर शिवना के इस रूप को और सुंदर बनाने के लिए लगातार श्रमदान के साथ शासन का सहयोग करते रहेंगे।

किरण मंडोवरा ने कहा देश की मातृशक्ति सेवा कार्य में कभी पीछे नहीं रही प्रत्येक कार्यक्रम की सफलता में मातृशक्ति को केवल बुलाने की देर है वह बड़ी श्रद्धा और उस कार्य को पूरा करने में लगन निष्ठा से कार्य करती है और मां शिवना हमारे लिए नदी ही नहीं हमारी आस्था का केंद्र है इस नदी के अंदर हमारे इष्ट देव का उत्पत्ति स्थल है इस पर किया हुआ सेवा कार्य कभी भी बेकार नहीं जाएगा सब को आशीर्वाद अवश्य मिलेगा।

एडवोकेट विजय परदेसी ने कहा कि श्रमदान हर बड़े कार्य को पूरा कर सकती है श्रमदान के प्रति सभी के आस्था है इस राष्ट्र को सुंदर बनाने के लिए भारत के प्रत्येक नागरिक को नदियों को और हर क्षेत्र में वृक्ष लगाकर वायुमंडल को शुद्ध करने के लिए बहुत प्रयास करने की आवश्यकता है भारत में भावनाएं काम करती हैं बस उनका उपयोग शासन को लेना आना चाहिए आम जनता शासन के साथ बराबर कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करेगी ।

पशुपतिनाथ प्रबंध समिति के मैनेजर राहुल रुनवाल ने श्रमदान करते हुए कहा कि इस नदी के प्रति सभी की गहरी आस्था है बाहर से आने वाले दर्शनार्थी शिवना के अंदर स्नान भी करते हैं अबकी बार शिवना का जो जल है वह साफ स्वच्छ है यदि प्रयास जारी रहे तो शिवना का और अच्छा रूप निखर कर आएगा इसके लिए सभी श्रमदान करेंगे परिणाम सुखद होंगे।
वरिष्ठ पत्रकार घनश्याम बटवाल ने 32वे दिवस के श्रमदान पर अपनी भागीदारी करते हुए कहा कि भगवान पशुपतिनाथ के पास स्टेट ओर सेंट्रल दोनों तरफ से पैसा आएगा उसका उपयोग यदि सही ढंग से कर दिया गया तो इस नदी का रूप निखर कर आएगा श्रमदानियों ने अपना दायित्व पूरा किया अब शासन प्रशासन की पूर्ण जवाबदारी है उसकी सफलता ज्यादा से ज्यादा मिले इसकी योजना अच्छे ढंग से बनाई जानी चाहिए।

21 जून का श्रमदान का कार्यक्रम प्रातः 6.30 योग का कार्यक्रम होगा 7 बजे प्रातः इस महाअभियान की पूर्णाहुति प्रशासनिक अधिकारियों के समक्ष होगी। स्वयंसेवी संस्थाएं नगर का हर वर्ग इस योग दिवस पर एक साथ दो कार्यक्रम का आयोजन होगा। हम उन्हें श्रमदान का संकल्प लेकर आने वाले बरसात की अगवानी करते हुए श्रमदान को यहीं विराम देंगे। श्रमदान के इस अभियान की पूर्णाहुति के दिवस पर हरिशंकर शर्मा मनीष भावसार जनता की और से सुझाव को एकत्र कर कलेक्टर महोदय को सौंपेंगे । रामघाट से लेकर मुक्तिधाम तक सागरमती की तर्ज पर लोहे की जाली लगाने का और गंदे नालों को पूर्ण रूप से प्रतिबंधित करने का लक्ष्य रखने के साथ ही चारों और हरियाली और वृक्ष लगाने का भी सुझाव दिया जाएगा।  इस कार्य को पूरा करने का इसकी शुरुआत बरसात के बाद की जाएगी। इस अभियान में कैलाश सिसोदिया, रविंद्र पांडे, किरण मंडोवरा, उषा कुमावत, पर्यावरण प्रेमी डांगी, नगरपालिका का समस्त स्टाफ के दम पर जो यह अभियान सफल हुआ है सभी का कलेक्टर महोदय द्वारा शासन की ओर से धन्यवाद और आभार माना है और यही जनता से आश्वासन चाहा गया है कि जब भी शासन की कोई योजना हो आप हमें सहयोग प्रदान करते रहे शासन प्रशासन जनता का एक अंग है यह जानकारी सत्येंद्र सिंह सोम ने दी।