शैक्षणिक ज्ञान और कौशल का दस्तावेज है – ‘परियोजना कार्य’* *बीबीए विभाग में हुआ प्रोजेक्ट इंडक्शन प्रोग्राम*

7:04 pm or October 19, 2022
महावीर अग्रवाल
मंदसौर  १९ अक्टूबर ;अभी तक;  परियोजना कार्य विद्यार्थी द्वारा अर्जित ज्ञान ,कौशल और दक्षता का दस्तावेज होता है जो छात्र श्रेष्ठ और अनुसंधान प्रेरित विषय का चयन कर प्रोजेक्ट का बेहतर प्रस्तुतीकरण देते हैं वह गहराई से विषय में पारंगता हासिल करते हुए स्वर्णिम भविष्य की ओर अग्रसर होते हैं । अतः छात्रों को अभी से जीवन का रोडमैप बना लेना चाहिए।
                                   उक्त प्रेरक विचार स्थानीय शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ बीआर नलवाया ने विद्यार्थी समुदाय के सम्मुख व्यक्त किए । आप नई शिक्षा नीति के निर्देशों के अंतर्गत बीबीए विभाग में आयोजित प्रोजेक्ट इंडक्शन कार्यक्रम में बोल रहे थे। प्रोग्राम की अध्यक्षता करते हुए डॉक्टर नलवाया ने कहा कि परियोजना कार्य में  शिक्षक की भूमिका अत्यधिक महत्वपूर्ण है। शिक्षक का दायित्व है कि वह विद्यार्थियों के साथ अकादमिक संवाद स्थापित करें। इंडक्शन प्रोग्राम को संबोधित करते हुए विभाग निदेशक डॉ अशोक अग्रवाल ने कहा कि परियोजना कार्य के माध्यम से विद्यार्थियों में समूह अनुसंधान गतिविधियों के अलावा स्व प्रबंधन, लोकतांत्रिक राय निर्माण एवं सामूहिक निर्णय लेने की क्षमता में अभिवृद्धि होती है। परियोजना कार्य की विशेषता है कि इसमें शामिल सभी लोग एक दूसरे से सीखते हैं। डॉ अग्रवाल ने कहा कि छात्र यदि इसे गंभीरता से लेते हैं तो श्रेष्ठ अंक अर्जन के साथ ही इससे बेहतर लर्निंग आउटकम भी आएंगे जो कि नवीन राष्ट्रीय शिक्षा नीति का सर्वोपरि उद्देश्य है। वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ रजत जैन ने इस हेतु चार क्रेडिट प्रणाली एवं मूल्यांकन पद्धति से रूबरू कराते हुए बताया कि प्रोजेक्ट मौलिक होकर स्वयं के द्वारा हस्तलिखित होना अनिवार्य है । परियोजना के विभिन्न विषय ,क्षेत्र ,पृष्ठभूमि व साहित्य समीक्षा की विस्तृत जानकारी डॉक्टर जैन द्वारा दी गई। प्रोफेसर साक्षी विजयवर्गीय ने परियोजना की प्रासंगिकता, लक्षित प्रतिफल एवं संबंधित कार्यस्थल विषयक चर्चा करते हुए पी-1, पी-2 एवं पी-3 प्रपत्र की रूपरेखा के साथ उनके सामाजिक प्रस्तुतीकरण के बारे में जानकारी दी। प्रोफेसर शालू नलवाया ने परियोजना वर्क फ्लो, फील्ड सर्वे, विश्लेषण की प्रविधि , तकनीकी जानकारी, आंकड़ों का संकलन, निष्कर्ष और चुनौतियों के आधार पर पी-4 में अनुशंसाओं को स्पष्ट तौर पर अभिव्यक्त करने के बारे में जानकारी देते हुए आभार प्रदर्शन भी किया । इस अवसर पर सभी छात्र छात्राओं ने परियोजना संबंधी विशिष्ट जिज्ञासाओं तथा शंकाओं को रखा ,जिसका निराकरण उपस्थित स्टाफ द्वारा किया गया।