श्रद्धा और आस्था से भगवान को पाया जा सकता है- बागेश्वर सरकार, राज्यपाल ने किया वर्चुअल संबोधन, महाराज जी ने 2लाख लोगों को एक साथ एक मंच पर जोड़ा

8:46 pm or October 16, 2022
 (दीपक शर्मा)
मो.7000691008
पन्ना १६ अक्टूबर ;अभी तक;  पन्ना के आदिवासी क्षेत्र कल्दा श्यामगिरी पठार में आदिवासी वनवासियों को सनातन संस्कृति से जोड़ने और समाज की मूल धारा में लाने के उद्देश्य से बनवासी रामकथा के अंतिम दिन की कथा कहते हुए बागेश्वरधाम सरकार ने कहा कि लोग मूर्तियों में भगवान खोजते फिरते हैं पर मां पिता भगवान के रूप में घर में विद्यमान हैं उनको उनकी सेवा नहीं करते, जो अपने  मां बाप की सेवा नहीं करते उनसे भगवान भी प्रसन्न नहीं होते धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी ने कहा कि अगर आप अपने मां-बाप की सेवा नहीं करोगे तो उन्नति नहीं होगी, भगवान राम राजा बनने वाले थे और उन्होंने मां बाप की आज्ञा मानकर राजपाट छोड़  बनवास चले गए वे वन  के राजा बने
आजकल समाज के लोग माता-पिता को तो मानते हैं पर माँ पिता की नहीं मानते , राम को तो मानते हैं पर रामायण कि नहीं मानते हमें मां-बाप गुरु और रामायण की बातों को मानना चाहिए तभी जीवन सफल होगा कथा मैं और मंदिर में जाने से मन पवित्र होता है दीन दुखियों की सेवा करने से तन पवित्र होता है आगे कहा वनबासी बचन के पक्के होते है जो कहा उसको पूरा निभाते है, जिनकी शरण में जाने से दुखो का अंत हो जाता है वे ही संत है और जिसकी जिंदगी में संत आ जाते है उनके जीवन मे बसंत आ जाता है।
राज्यपाल ने किया वर्चुअल संबोधन*
 मध्य प्रदेश के राज्यपाल मंगू भाई पटेल को श्री बनवासी रामकथा में शामिल होना था पर किन्ही कारणों से भी प्रत्यक्ष रूप से नहीं आ सके इस कारण उन्होंने श्री राम कथा में आए भक्तों को वर्चुअल संबोधन किया अंतरराष्ट्रीय कथावाचक पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने राज्यपाल से कहा कि पहली व्यासपीठ है जो आश्रम से निकलकर आदिवासी वनवासी के मध्य कथा कह रही है उन्होंने कहा अबतक आदिवासी राजनीतिक सभाओं में ताली बजाने के काम आते थे आज पहला अवसर है मंच पर खड़े होकर भगवान की आरती उतार रहे हैं और उन्होंने कहा कि आप भले ही प्रत्यक्ष रूप से नहीं आ पाए लेकिन आदिवासियों के हित में सरकार के और कार्य कराए जाने चाहिए क्योंकि आज तक पन्ना के इस दूरस्थ अंचल में अभी भी शासन की योजनाएं नहीं पहुंची हैं इसके बाद राज्यपाल मंगू भाई पटेल ने वर्चुअल सभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबों के कल्याण के लिए उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री आवास, प्रधानमंत्री सड़क सहित तमाम लोग कल्याणकारी योजनाएं चलाई हैं इसका लाभ मिलेगा राज्यपाल मांगू भाई पटेल ने बागेश्वरधाम सरकार के कार्य की प्रशंसा करते हुए कहा कि मुझे खुशी हो रही है कि एक धार्मिक संत आदिवासियों के कल्याण और सनातन से जोड़ने का काम कर रहे हैं हम इसकी प्रशंसा करते हैं इनके इस कार्य के साथ सरकार भी कल्दा क्षेत्र के उत्थान के लिए सहयोग करेंगी उन्होंने कहा मैं आदिवासियों के बीच जाता रहता हूं महाराज जी के प्रयास के साथ मिलाकर कार्य करने का इच्छुक हूं और हमारी सरकार गरीब पिछड़े समाज जो अनपढ़ है उनके उत्थान के लिए कार्य करती है आदिवासी बनवासी गरीब लोगों में शिक्षा कैसे आए इसके प्रयास करूंगा  राज्यपाल ने समाज और संतो से अनुरोध है कि राम के प्यारे इस समाज मदद करे जो भी गरीबों के आदिवासियों के कल्याण के लिए काम कर रहे हैं निष्ठा के साथ कार्य करें हमारी सरकार उनके साथ है हम संकल्प लेते हैं महाराज जी ने 2लाख लोगों को एक साथ एक मंच पर जोड़ा है मैं इसकी प्रशंसा करता हूं
राज्यपाल ने कहा कि हमारे क्षेत्र गुजरात में इस इलाके के लोग रहते हैं बागेश्वरधाम सरकार समाज कल्याण और धर्म के प्रचार के लिए अच्छा काम करते हैं इसकी मुझे जानकारी है  मैं स्वयं आकर इन कार्यों को देखुगा, मैं आदिवासी परिवार से आता हूं  1करोड़ 84 लाख आदिवासी भाई बहनों की सेवा करने के लिए राज्यपाल बना कर बैठाया गया हु मैं आप जैसे संतों के साथ मिलकर आदिवासियों की सेवा करूंगा और हमारी सेवा करने की भावना आगे बढ़ती रहें ऐसी भगवान से प्रेरणा मानता हूं मंगू भाई ने कहा मैं पन्ना जिले के कल्दा क्षेत्र और  बागेश्वरधाम जरूर आऊंगा महाराज जी ने व्यासपीठ से राज्यपाल को आशीर्वाद देते हुए कहा आप आदिवासी गरीबों का कल्याण करते रहे  इससे पूर्व कलेक्टर संजय कुमार मिश्रा ने राज्यपाल का वर्चुअली स्वागत किया।
*आज लगेगा बागेश्वर प्रेत दरबार*
 बागेश्वर धाम सरकार ने कहा कि समाज के जो लोग प्रेत आत्माओं से पीड़ित है उनके लिए प्रेत दरबार लगाया गया है आदिवासियों में इस तरह की पीड़ा ज्यादा होती है उनकी इस पीड़ा को दूर करने प्रेत दरबार लगाया जा रही जो इस दर्द से पीड़ित है वे आ सकते है।
*लगा निशुल्क नेत्र शिविर*
श्री सद्गुरु सेवा संघ ट्रस्ट के सौजन्य से महाराज श्री धीरेंद्र कृष्ण जी के आदेश पर विशाल नेत्र शिविर का आयोजन किया गया 3 दिन तक मरीजों का नेत्र परीक्षण हुआ और उन्हें दवाइयां दी गई 185 मरीजों का नेत्र परीक्षण कर आंखों के इलाज की सलाह दी गई साथ ही सद्गुरु सेवा संघ में इन लोगों को अपने अस्पताल में  चित्रकूट ले जाएगा इलाज किया वहां इलाज कराने के बाद वापस घर लाकर भेज जाएगा