श्रमिकों की बिना सहमति के फ़र्ज़ी खाता खोल कर मज़दूरी की राशि का गबन, सचिव निलंबित

महावीर अग्रवाल
मन्दसौर 14 सितंबर ;अभी तक; सीईओ जिला पंचायत श्री ऋषव गुप्ता द्वारा ग्राम पंचायत मकडावन के सचिव गोपाल चावड़ा द्वारा श्रमिकों की बिना सहमति के ही फ़र्ज़ी खाते खोलकर, मज़दूरी की राशि बिना जानकारी के डलवाकर एवं उसे गबन किया जाने के कारण निलंबित किया गया।
मनरेगा योजना के तहत ग्राम पंचायत मकडावन में बिना कार्य किये ही कुछ चुनिंदा मज़दूरों के फ़र्ज़ी बैंक खाते खुलवाए जाकर उनके खातों से राशि निकालने की शिकायत ज़िला पंचायत को प्राप्त हुई थी। शिकायत की जांच जनपद पंचायत से करवाई गई।
जनपद पंचायत द्वारा की गई जांच में सचिव के विरुद्ध की गई शिकायत सही पाई गई। जांच प्रतिवेदन में वित्तीय अनियमितता की पुष्टि की गई।
उदाहरण स्वरूप, श्री होकमसिंह के परिवार के चार सदस्यों द्वारा 16 मार्च से 23 मार्च तक कार्य करना पाया गया, जिनके कुल 24 मानव दिवस के अनुसार लगभग 4 हजार रूपये की राशि बैक आफ बडोदा में से आहरित कर ली गई।
वैसे ही श्री लखनसिंह के परिवार वालो द्वारा 06 दिवस 16 मार्च से 22 मार्च तक के कार्य होना पाया जाकर राशि लगभग 4 हजार रुपये की राशि बैक में से आहरित कर ली गई।
सचिव, ग्राम पंचायत मकडावन गोपाल चावडा द्वारा दोनो श्रमिकों की बिना सहमति के ही खाता खोलकर राशि जमा करवाकर आहरित की गयी।
उपरोक्त सचिव को कारण बताओ सूचना पत्र जारी कर अपना पक्ष प्रस्तुत करने का पर्याप्त अवसर भी दिया गया।
फर्जी भुगतान कर राशि निकालने के कारण गोपाल चावडा, सचिव, ग्राम पंचायत मकडावन वर्तमान में सचिव, ग्राम पंचायत, बरखेडाउदा को मनरेगा योजना में वित्तिय अनियमितता की जाने से म0प्र0 पंचायत सेवा (अनुशासन एवं अपील) नियम 1999 भाग-2 के अंतर्गत तत्काल प्रभाव से सचिव के पद से निलंबित किया जाकर विभागीय जांच संस्थित की गयी है। निलंबन अवधी में श्री चावडा का मुख्यालय जनपद पंचायत गरोठ रहेगा एवं शासन के नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता प्राप्त होता रहेगा।

 

 

 


Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *