श्रीमती कमलादेवी शर्मा का दुःखन निधन, सिन्धी समाज में शोक की लहर 

4:40 pm or October 31, 2020
श्रीमती कमलादेवी शर्मा का दुःखन निधन सिन्धी समाज में शोक की लहर 
महावीर अग्रवाल
मन्दसौर ३१ अक्टूबर ;अभी तक; सिन्धी समाज के प्रतिष्ठित, विद्वान एवं पण्डित स्व. झमटरामजी शर्मा की पुत्रवधु पं. शिवकुमार शर्मा की धर्मपत्नी एवं मुकुन्द, जगदीश, भवानीशंकर, प्रकाश व पूज्य सिंधी जनरल पंचायत के अध्यक्ष व भाजपा के जिला उपाध्यक्ष पं. विनोद शर्मा की पूजनीय ममतामयी मॉ श्रीमती कमलादेवी शर्मा (गुरयाणी) का दुःखद निधन पावन शरद पूर्णिमा शुक्रवार 30 अक्टूबर को अल्प बिमारी के बाद इन्दौर के भण्डारी अस्पताल में हो गया।
                उक्त आशय की जानकारी देते हुए पूज्य सिधी जनरल पंचायत के संयोजक पुरूषोत्तम शिवानी ने देते हुए बताया कि पूज्य माताजी को लगभग 15 दिवस पूर्व अचानक किडनी व चेस्ट में इन्फेक्शन के कारण इलाज के लिये इंदौर ले जाया गया। परिवार व चिकित्सकों ने अपनी पूर्ण निष्ठा के के साथ सेव कर इलाज किया किन्तु किडनी फेल हो जाने के कारण उन्हें नहीं बचाया जा सका और उन्होनंे 76 वर्ष की उम्र में अंतिम सांस ली। आपके देहावसान के बाद आपका शव मंदसौर लाया गया उनके प्रताप कॉलोनी स्थित निवास स्थान से शवयात्रा निकली जिसमें कोविड बिमारी के नियमों का परिपालन करते हुए सिन्धी समाज के सैकड़ों स्नेहीजन सम्मिलित हुए। मुक्तिधाम पर उनके पुत्रों ने मुखाग्नि देकर माताजी के अंतिम यात्रा की बिदाई दी।
               श्री शिवानी ने बताया कि पं. शिवकुमार शर्मा की तबियत खराब होने के कारण माताजी के दो दिन पूर्व इलाज हेतु इन्दौर ले जाया गया जिनका उपचार भी अरविन्दो अस्पताल के भण्डारी अस्पताल में हुआ वो ठीक होकर अपनी धर्मपत्नी श्रीमती कमलादेवी के साथ अलग-अलग एम्बूलेंस में मंदसौर आये। यह एक है प्रभु की लीला।
                श्री शिवानी ने बताया कि पं. विनोद शर्मा के सुपुत्र पं. करण शर्मा का शुभ विवाह 30 अक्टूबर को होना था जिसकी तैयारी भी कर दी थी किन्तु पूज्य माताजी को अपने जीवन यात्रा समाप्त होने एहसास हो गया था। इसलिये उन्होनंे और पं. शिवकुमार शर्मा ने इच्छा प्रकट की कि पोत्र का विवाह एक दिन पूर्व ही करवा देना चाहिए। परिवार ने माता-पिता की इच्छा को आदेश मानकर पुत्र करण का विवाह जो 30 अक्टूबर को मनीषा वेरावल (सौराष्ट्र) के साथ होना था किन्तु एक दिन पूर्व 29 अक्टूबर को अमृत बेवा में सुबह 5.30 बजे पिपलियामंडी आर्य समाज मंदिर में श्री सत्येन्द्र ने आर्य समाज वैवाहिक वैदिक पद्धति से सम्पन्न करवाया।
                    मालवांचल के सिन्धी समाज में पं. शिवकुमार शर्मा एक प्रतिष्ठित व विद्वान पंडित के रूप में उनका पूरा परिवार सेवा कार्य में लगा हुआ है और माताजी को समाज की महिलाएं ‘‘गुरयाणी’ कहकर पुकारती थी और आपका भी पुरे सिन्धी समाज की माताओं बहनों में प्रेम व वात्सल्य था। ऐसी महान आत्मा को सम्पूर्ण सिन्धी समाज नतमस्तक होकर श्रद्धाजंलि अर्पित करता है और परम परमात्मा से निवेदन करता है कि मृत आत्मा को आपके श्री चरणों में स्थान दे व शोकाकुल शिवकुमार शर्मा परिवार को यह असहनीय दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करे।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *