सकल जैन युवक – युवति परिचय सम्मेलन का हुआ सफल आयोजन

5:39 pm or December 27, 2021

महावीर अग्रवाल

मंदसौर २७ दिसंबर ;अभी तक;  बडेसाथ ओसवाल समाज मंदसौर द्वारा 26 दिसम्बर 2021 रविवार को सकल जैन समाज के विवाह योग्य युवक – युवतियों के  परिचय सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसमें बडी संख्या में युवक – युवतियां और उनके अभिभावक सम्मिलित हुए।

                  प्रोजेक्ट चैयरमैन प्रतिक चंडालिया और जयेश डांगी ने बताया कि विगत चार वर्षो से ऐसा आयोजन नही हो पाया था जिसके बाद रविवार को बडेसाथ ओसवाल समाज के द्वारा मंदसौर में इस प्रकार का आयोजन हुआ। परिचय सम्मेलन हेतु कुल 527 प्रविष्टियां प्राप्त हुई जिनका समावेश कर परिचय पुस्तिका रिश्तों की पहल 2021 तैयार की गई।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में सकल जैन समाज एवं बड़ेसाथ ओसवाल समाज के संयोजक सुरेन्द्र लोढ़ा उपस्थित थे। जिनका स्वागत बड़ेसाथ ओसवाल समाज के अध्यक्ष अजीत संघवी, महामंत्री विजय सुराणा, कोषाध्यक्ष हस्तीमल कोचेटा, सह कोषाध्यक्ष राजू भाई संचेती, प्रोजेक्ट चेयरमेन प्रतिक चंडालिया, जयेश डांगी, महिला इकाई उपाध्यक्ष श्रीेमती हेमा हींगड़, युवा इकाई उपाध्यक्ष अंकित कीमती ने स्वागत किया।

मंचासिन सभी महानुभावों ने ओसवाल समाज की कुलदेवी सच्चियामाता के चित्र एवं मूर्ति पर माल्यार्पण और दीप प्रज्जविलत कर कार्यक्रम की शुरूआत की। मंगलाचरण नृत्य के माध्यम से चार्वी रांका ने प्रस्तुत किया। स्वागत गीत दिव्या कांकरिया, दीपा बाफना ने किया। कार्यक्रम के शुरूआत में आयोजन की रूपरेखा प्रोजेक्ट चेयरमैन प्रतिक चंडालिया और जयेश डांगी ने रखी और परिचय सम्मेलन के बारे में विस्तृत जानकारी दी।

उपस्थित सभी मंचासिन महानुभावों द्वारा परिचय पुस्तिका रिश्तों की पहल का विमोचन किया गया। जिसके बाद परिचय पुस्तिका सहित युवक – युवतियों के लिए तैयार की गई कीट का वितरण प्रत्याशियों तथा उनके अभिभावकों को किया गया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सकल जैन समाज के संयोजक सुरेन्द्र लोढ़ा ने कहा कि विवाह एक ऐसी परम्परा है जिसमें दो व्यक्तियों का नहीं बल्कि दो परिवारों का मिलन होता है। विवाह हमारे सभ्य समाज की एक सुसंस्कृति है जो युगों युगों से चल रही है। आज इस मंच के माध्यम से युवक – युवतियों को अपने पसंद के वर – वधू तलाशने में निश्चित रूप से मदद मिलेगी। ऐसे आयोजन निरंतर होते रहना चाहिए।

बड़ेसाथ ओसवाल समाज के अध्यक्ष अजीत संघवी ने कहा कि आज के आधुनिक समय में हम तेजी से आगे बढ रहे है। बड़े परिवार अब छोटे होते जा रहे है। ऐसे में विवाह योग्य युवक – युवतियों के अभिभावकों के सामने विकट समस्या खड़ी हो जाती है अपने बच्चों के लिए योग्य वर – वधू कैसे तलाशे ऐसे में सामूहिक परिचय सम्मेलन के आयोजन मिल के पत्थर साबित होते है। ऐसे सफल आयोजन को लेकर पूरी टीम को बहुत बधाई।

महामंत्री विजय सुराणा ने कहा कि ऐसे आयोजन करना बड़ा कठिन कार्य होता है। पहले तो प्रचार प्रसार करना उसके बाद प्रविष्टियों का संकलन कर उसे संपादित कर पुस्तिका में पिरौना वाकई में  कठिन कार्य हे। इस कठिन कार्य को भाई प्रतिक चंडालिया और जयेेश डांगी की टीम ने बखूबी और पूरी जिम्मेदारी, गंभीरता के साथ पूरा किया है पूरी टीम को इस पुनित कार्य के लिए बहुत बधाई।

जिसके बाद उपस्थित सभी प्रत्याशियों ने अपना और अपने परिवार का परिचय मंच से दिया। प्राथमिक परिचय के बाद कई परिवारों ने आपस में बैठकर चर्चा कर रिश्तों की पहल की शुरूआत की।कार्यक्रम में सभी समितियों का सराहनीय योगदान रहा। कार्यक्रम का संचालन बडेसाथ ओसवाल समाज के महामंत्री विजय सुराणा, प्रतिक चंडालिया और जयेश डांगी ने किया। अंत में आभार हस्तीमल कोचेटा ने माना।समाज में विशिष्ट योगदान पर 11 महानुभावों का हुआ बहुमान समाज में विशिष्ट और सराहनीय योगदान एवं समाजसेवा के लिए ओसवाल बडेसाथ जैन समजा के वरिष्ठजन हीरालाल जी मेहता, राजेन्द्र जी सुराणा, आनंदीलाल जी दुग्गड़, कोमल जी बाफना, गजराज जी जैन, गजेन्द्र जी हींगड़, एस एम जैन सा., प्रदीप जी कीमती, शांतिलाल जी भण्डारी, शांतिलाल जी लोढा, नरेन्द्र जी मेहता का कार्यक्रम में बड़ेसाथ ओसवाल समाज और आयोजनकर्ताओं ने बहुमान कर सम्मानित किया।