समिति प्रबंधक रहते हुए 35 हजार 575 रुपयों का किया था गबन, एक साल की सजा

मयंक शर्मा

खंडवा २७ सितम्बर ;अभी तक; किसानों से वसूल किए गए रुपये की हेरा-फेरी करने वाले सेवा सहकारी समिति मांडला के पूर्व प्रबंधक शशिकांत मेहता निवासी रामनगर को शनिवार एक साल की सजा सुनाई गयी। न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी ने एक हजार रुपये का जुर्माना भी अरोपित किया है।

सहायक लोक अभियोजन अधिकारी हरिप्रसाद बांके बताया कि जिला सहायक केंद्रीय बैंक के प्रबंधक इदरसिंह पिता ओंकार सिंह ने जावर पुलिस को रपट दर्ज कराई थी।  शिकायत में आरोपी शशिकांत पर आरोप लगाया गय था कि  समिति के किसान सदस्यों द्वारा जमा किए गए 35 हजार 575 रुपयों का गबन किया है।  उसने फर्जी रजिस्टर बनाकर ं समिति के द्वारा बेचे गए सामान की फर्जी एंट्री की थी।

                     श्री बांके ने बताया कि विभाग स्तर पर भी जांच की गयी। जांच मे पाया कि समिति का स्टॉक और लेन-देन खाते की जांच में 11 किसानों ने 35 हजार 575 रुपये समिति में जमा  रुपयों को आरोपी ने गबन कर लिया था। जांच रिपोर्ट के आधार पर जावर थाने में शशिकांत पर धोखाधड़ी कर केस दर्ज कर अथियोग पत्र न्ययालय में पेश किया गया था।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *