सम्पूर्ण समाज के लिए है गीता का ज्ञान : ब्रह्माकुमारी वीणा बहनजी

8:08 pm or November 9, 2022
(दीपक शर्मा)
पन्ना ९ नवंबर ;अभी तक; प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय, पन्ना में आजादी के अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर थीम के अंतर्गत आयोजित ’’गीता सार, सर्व खुशियों का आधार’’ विषय पर कर्नाटक से पधारीं राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी वीणा बहनजी ने कहा कि, जीवन में खुशियों का आधार श्रेष्ठ कर्म हैं। कर्म ही जीवन है। श्रेष्ठ कर्म की व्याख्या करते हुए उन्होंने कहा कि, विकारी मनोवृत्तियों से मुक्त कर्म ही श्रेष्ठ कर्म है। जिससे सभी के जीवन में सुख शांति का प्रभा होता है। और खुशियां आती हैं। वर्तमान समय नकारात्मक वातावरण में मनोवृत्ति को शुद्ध बनाने में मेडीटेशन (ध्यान) का अभ्यास अत्यंत महत्वपूर्ण है। श्रीमद् भगवद् गीता का ज्ञान केवल एक अर्जुन के लिए नहीं बल्कि सम्पूर्ण जनमानस के लिए है। लेकिन आज गीता ज्ञान पुस्तक में रह गया और मस्तक खाली रह गया। इसलिए इस तनाव भरे माहौल में अब आवश्यकता है-गीता ज्ञान को अपने व्यवहारिक स्वरूप में लाने की। तभी हमारा जीवन सुखद और शांतिपूर्ण बन जाएगा। बहनजी ने सभी को मेडीटेशन का अभ्यास कराया।
                             कार्यक्रम का शुभारम्भ अतिथियों के स्वागत एवं दीप प्रज्जवलन से किया गया। सीता बहनजी ने सभी का स्वागत भाषण करते हुए संस्था की गतिविधियों पर प्रकाश डाला एवं संस्था का उद्देश्य बताया। पुलिस अधीक्षक धरमराज मीना ने कार्यक्रम की अति सराहना करते हुए कहा कि, मुझे थोडे़ ही समय में बहनजी के द्वारा आज जो ज्ञान की गंगा बही उसको हम सभी को आत्मसात करना है, सिर्फ सुनना ही नहीं है यहां से कुछ लेकर जाना है। मनोज केशरवानी ने बहनजी का सम्मान करते हुए कार्यक्रम की सराहना की। कार्यक्रम में नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती मीना पाण्डे, कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती शारदा पाठक, भान प्रताप सिंह (हल्के राजा), श्रीमती निशा जैन, पूर्व प्राचार्य, श्रीमती सुमन गुप्ता, श्रीमती मंजूलता जैन, एडवोकेट, गुरूद्वारे से शंकर जगवानी, एलआईसी मैनेजर, रावेन्द्र शुक्ला, तरूण पाठक, सन्मत जैन, डॉ खैरहा, डॉ देवव्रत, संजय तिवारी (मन्टू भईया), योगेश पाण्डेय एवं ब्रह्माकुमारी विद्यालय से जुड़े हुए जिले भर से आये हुए भाई-बहनों की गरिमामय उपस्थिति के साथ शहर के गणमान्य लोग उपस्थित रहे।