साइड रोड में बन गयी भारी वाहनों का अवैध पार्किग स्थल, हाईकोर्ट ने नोटिस जारी कर मांगा जवाब

सिद्धार्थ पांडेय

जबलपुर  ६ जनवरी ;अभी तक;  नेशनल हाई-वे 44 स्थित अंधुआ वायपास की साइड रोड में भारी वाहनों की पार्किग को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी थी। याचिका में कहा गया था कि सीएम हेल्प लाईन में शिकायत के बावजूद भी अवैध पार्किग के खिलाफ कोई सख्त कार्यवाही नहीं की गयी है। याचिका की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रवि विजय कुमार मलिमठ तथा जस्टिस पी के कौरव की युगलपीठ ने अनावेदकों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

याचिकाकर्ता तरूण कुमार आनंद सहित अन्य की तरफ से दायर की गयी याचिका में कहा गया था कि अंधुआ वायपास में लोगों की आवाजाही के लिए साइड रोड दी गयी है। साइड रोड में बडी संख्या में ढाबे तथा मैकेनिक शाॅप का संचालन होता है। जिसके कारण साइड रोड में भारी वाहनों की खडे रहते है। ओरियंटल काॅलेज तथा रहवासी काॅलोनियों के निवासी आवाजारी के लिए साइड रोड का उपयोग करते है। भारी वाहनों की पार्किग के कारण छात्रों व काॅलोनियों के रहवासियों को आवाजारी में परेशानी होती है।

भारी वाहनों की पार्किग के कारण साइड रोड में अक्सर जाम की स्थिति बनी रहती है और आये दिन दुर्घटनाएं भी घटित होती है। इस संबंध में सीएम हेल्प लाईन में शिकायत की गयी थी। जिसके बाद दिखावटी चालानी कार्यवाही कर शिकायत का निराकरण कर दिया गया। सीएम हेल्प लाईन में शिकायत के बावजूद भी समस्या जस की तस बनी हुई है। याचिका में कलेक्टर,निगमायुक्त,पुलिस अधीक्षक तथा एचएचओ धनवंतरी नगर को अनावेदक बनाया गया है। याचिका की सुनवाई के बाद युगलपीठ ने अनावेदको को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब मांगा है। याचिकाकर्ता की तरफ से योगेश मोहन तिवारी ने पैरवी की।