साध्वी श्री कुसुमवतीजी मसा की जन्मजयंति पर 250 श्रावक श्राविकाओ ने सामूहिक एकासने किये

महावीर अग्रवाल
मंदसौर २६ सितम्बर ;अभी तक;  जिन शासन प्रभाविका बाल बह्राचारी परम विदुषी साध्वी श्री कुसुमवतीजी मसा की 96वी जन्मजयंति पर रविवार को नई आबादी शास्त्री काॅलोनी स्थित जैन दिवाकर स्वाध्याय भवन में सामूहिक एकासने का आयोजन किया गया। परप पूज्य श्रमणसंघीय उपाध्याय शताब्दी नायक श्री मुलमुनिजी मसा के देवलोक गमन होने के कारण एकासने का आयोजन सादगीर्पूणर् रूप से हुआ तथा एकासने के अतिरिक्त शेष सभी कायर्क्रम स्थागित रखे गये। मंदसौर चातुमार्स हेतु विराजित श्री कुसुमवतीजी मसा की सुशिष्या साध्वी डाॅ दिव्यप्रभाजी  मसा आदिठाणा 4 की पावन प्रेरणा व निश्रा में आयोजित सामूहिक एकासने में लगभग 250 श्रावक श्राविकाओं ने सामूहिक एकासने  24 धंटे में मात्र एक बार आहार किये। सभी को एकासने कराने का धमर्लाभ शांतिलालए नरेन्द्र कुमार हषर्लजी नाहर परिवार शहरवाले ने लिया साथ ही बाहर से पधारे श्रीसंघो की आतिथ्य सेवा का लाभ भी प्राप्त किया।
साध्वी डाॅ दिव्यप्रभाज ने एकासने के पूवर् आयोजित विशिष्ठ धमर्सभा में कहा कि श्रमण संघ्ज्ञीय उपाध्याय श्री मुलमुनिजी मसा देश के सबसे वरिष्ठ संतो में से एक थे। उनका देवलोकगमन श्रमणसंघ के लिये अपुरणीय क्षति है लेकिन संसार में जन्म व मृत्यु दोनो निरतंर चलने वाली प्रक्रिया है उनका देवलोकगमन समाधि पूवर् संयम साधना केसाथ हुआ। आपने 100 वे जन्मदिवस पर उन्होने सधांरा ग्रहण किया तथा मात्र एक दिवस की साधना में उन्होने महाप्रयूर्षण यात्रा के लिये प्रस्थान कर लिया। आपने कहा कि जो समाधि भरण को प्राप्त होते है उनकी आत्मा को निश्चित रूप से सदगति ही मिलती है। उन्होने अपने 100 वषर् में से अधिकाश जीवन संयम धमर्साधना में लगया उनका पुरा जीवन संतो व श्रावक श्राविकाओं दोनो के लिये प्रेरणादायी है।
नवकार महामंत्र के हुए जाप. उपाध्याय श्री मुलमुनिजी मसा के देवलोकगमन पर रविवार को यहाॅ आयोजित धमर्सभा में नवकार महामंत्र का भी जाप किया गया। साध्वी डाॅ दिव्यप्रभाजीए साध्वी श्री निरूपमाजीए साध्वी श्री सौम्यजी मसाए श्री आयार्जी मसा ने धमर्सभा में उपस्थित होकर सभी श्रावक श्राविकाओं को नवकार महामंत्र का जाप कराया।
विभिन्न श्रीसंघो के 150 श्रावक श्राविकाये मंदसौर आये. साध्वी डाॅ दिव्यप्रभाजी मसा के दशर्न वंदना का लाभ लेने हेतु आसनी डबोक उदयपुर के पास चित्तोडगढ किशन गढए शम्पुपुरा व पंजाब से लगभग 150 श्रावक श्राविकाओं मंदसौर पहुॅचे रविवार को जैन दिवाकर स्वाध्याय भवन में आयोजित धमर्सभा में इन सभी श्रावक श्राविकाओं ने साध्वीजी के दशर्नवंदन का धमर्लाभ लिया तथा प्रवचन श्रवण किये।
चातुमार्स की विनती की.धमर्सभा में डबोक उदयपुर के पास व कपासन श्री संघ के पदाधिाकारीयो व श्रावक श्रावकिओं ने साध्वी डाॅ दिव्यप्रभाजी से वषर् 2022 का चातुमासर् डबोक व कपासन में करने की विनती की। साध्वीजी ने उचित समय पर उचित निणर्य लेने की बात कही।