सितंबर माह में बेकाबू हुआ कोरोना संक्रमण

मयंक भार्गव

बैतूल १७ सितम्बर ;अभी तक;  जिले में सितंबर माह में कोरोना संक्रमण बेकाबू हो गया है। माह के शुरूवाती 16 दिनों में ही रिकार्ड 591 मरीज मिले है वहीं 16 दिन में 16 लोगों की मौत हो गई है। सितंबर माह में अभी तक औसत 37 कोरोना संक्रमित प्रतिदिन मिल रहे है। माह के शुरूवती 16 दिनों में लगातार संक्रमित मरीज मिलने से जिले में पॉजिविटी बढ़कर 7.33 फीसद हो गई है जबकि अगस्त माह के अंत में पॉजिविटी 5.37 फीसद ही थी। वहीं इन 16 दिनों में रिकवरी रेट 73.90 से कम होकर 66.79 फीसदी हो गया है। वहीं 16 दिनों में 16 संक्रमितों की मौत होने से जिले का औसत मृत्यु दर 2.04 फीसदी से बढ़कर 2.34 फीसद हो गया है। जिले में लगातार संक्रमित मरीज मिलने और मौत का आंकड़ा बढऩे से स्वास्थ्य महकमा भी हैरान परेशान है।
दो फीसदी बढ़ी पॉजिटिव मरीजों की संख्या

जिले में 31 अगस्त तक कुल 12773 लोगों के सेंपल कोरोना टेस्ट के लिए भिजवाए गए थे। इनमें से 686 पॉजिटिव थे वहीं 11 हजार 105 निगेटिव थे। अगस्त माह के अंत तक जिले में पॉजिक्टिविटी रेशो 5.37 था। लेकिन सितंबर माह के मात्र 16 दिनों में ही 591 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद जिले में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1277 हो गई। 16 सितंबर तक कुल 17 हजार 415 लोगों के सेंपल जांच के लिए भिजवाए गए जिसमें 1277 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद जिले का पाजिक्टिविटी रेशो बढ़कर 7.33 फीसदी हो गया है।

मृत्यु दर भी 0.30 फीसदी बढ़ी

जिले में अगस्त माह के अंत तक कुल 686 संक्रमित मरीज मिले थे इनमें से 14 लोगों की मौत हुई थी। अगस्त माह के अंत में जिले का मृत्यु दर 2.04 फीसदी था। लेकिन सितंबर माह के शुरूवाती 16 दिनों में 591 नए संक्रमितों के साथ कुल 1277 संक्रमित हो गए। 16 दिनों में 16 लोगों की मौत होने के बाद जिले में मृत्यु संख्या 30 हो गई है। जिले का मृत्यु दर 2.04 फीसदी से 0.30 फीसदी बढ़कर 2.34 फीसदी हो गया है।

6.91 फीसदी कम हुआ रिकवरी रेट

जिले में लगातार मरीजों के मिलने के साथ ही रिकवरी रेट भी कम हुआ है और एक्टिव केस की संख्या बढ़ रही है। 31 अगस्त तक जिले में 686 मरीजों में से 507 मरीज ठीक हो गए थे। वहीं 165 मरीज ठीक हो गए है। अगस्त में जिले का रिकवरी रेट 73.90 फीसदी और एक्टिव मरीज 24.05 फीसदी थे। 16 सितंबर तक जिले में संक्रमित मरीजों की संख्या 1277 हो गई जिसमें से 853 मरीज ठीक हुए वहीं 394 मरीज भर्ती थे। 16 सितंबर तक जिले का रिकवरी रेट 73.90 से कम होकर 66.79 फीसदी हो गया है वहीं एक्टिव केस 24.05 फीसद से बढ़कर 30.85 फीसद हो गया है।

सितंबर माह में बिगड़े हालात

जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति अगस्त माह तक संतोषजनक थी लेकिन सितंबर माह के 16 दिनों में ही हालात बिगड़ गए। यदि इन 16 दिनों की बात करे तो 16 दिनों में कुल 4642 लोगों के सेंपल लिए जिसमें से 591 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सितंबर माह के 16 दिनों में जिले का पाजिक्टिविटी रेशो 12.73 है जबकि अगस्त माह के अंत तक यह मात्र 5.37 फीसदी था। सितंबर माह में मिले कुल 591 मरीजों में से 16 की मौत हो गई। इस माह में मृत्यु दर 2.70 फीसदी है जबकि अगस्त माह तक मृत्यु दर 2.04 फीसदी था। सितंबर माह में पॉजिक्टिविटी रेशो और मृत्यु दर बढऩे से जिले में हालात बिगड़ गए है। इसके बावजूद आम नागरिक बेखौफ होकर खुलेआम घूम रहे है और सोशल डिस्टेंस के साथ ही प्रशासन के दिशा निर्देशों की धज्जियां उड़ा रहे है। यदि अभी भी जिलेवासी जागरूक नहीं हुए तो जिले में हालात और भी अधिक बदतर हो जाएंगे।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *