सिवनी: रात 1.45 बजे भूकंप से मचा हड़कंप, 4.3 रही तीव्रता

संजय अग्रवाल

सिवनी २२ नवंबर ;अभी तक; मध्यप्रदेश के सिवनी में 21-22 नवंबर की रात भूकंप से लोगों की गहरी नींद टूट गई। भारतीय मौसम विज्ञान केंद्र व नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलाजी के अनुसार 22 नवंबर की प्रातः 1.45 बजे सिवनी के 22.10 उत्तरी अक्षांश 79.55 पूर्वी देशांतर पर रिक्टर स्केल में 4.3 तीव्रता का भूकंप दर्ज किया गया हैं। भूकंप का केंद्र शहर में 10 किलोमीटर गहराई में स्थित था। झटके कई किलोमीटर के दायरे में महसूस किए गए। पूरा घर हिलता देख गहरी नींद से जागे लोग घरों के बाहर आ गए। कड़ाके की ठंड ने लोगों को घरों में वापस लौटने पर मजबूर कर दिया।

रविवार को आया भूकंप का झटका जिले में इससे पहले आए सभी भूकंप में सबसे तेज व अधिक समय तक महसूस किया गया। हालाकि इस भूकंप से कोई बड़ा नुकसान होने की खबर फिलहाल नहीं हैं। भूकंप के डर के कारण लोग पूरी रात नहीं सो पाए। तीव्र भूकंप के बाद सुबह 8.30 बजे एक के बाद एक भूकंप कई हल्के झटके महसूस किए गए।

कलेक्टर डाॅ. राहुल हरिदास फटिंग ने बताया कि जिला प्रशासन ने सभी वरिष्ठ कार्यालय को इसकी जानकारी भेज दी हैं। नागरिकों की जान-माल की सुरक्षा केलिए पुलिस, होमगार्ड्स, एसडीआरएफ, स्वास्थ्य व प्रशासनिक अधिकारियों को आवश्यक व्यवस्थाओं के लिए सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं।

सिवनी निवासी प्रवीण तिवारी, अनूप तिवारी, प्रकाश अग्रवाल, संतोष श्रीवास, विकेश कारपेती, लोकेश उपाध्याय, गोपाल चैरसिया, प्रदीप धोंगड़ी इत्यादि ने बताया कि तकरीबन 15 सेकेंड तक धरती हिलती महसूस हुई। पलंग, खिड़की दरवाजे सहित पूरा घर गड़गड़ाहट के साथ कुछ सेकेंड के लिए हिल गया। जिला मुख्यालय के अलावा बरघाट, कुरई में भी लोगों ने भूकंप के झटके महसूस किए। जोरदार भूकंप से लोगों में दहशत का माहौल हैं। रात में घरों से बाहर निकले लोग कड़ाके की ठंड में आग जला कर आग तापते नजर आए।
सिवनी में 27 अक्टूबर रिक्टर स्केल पर पहला भूकंप 3.3 तीव्रता दर्ज किया गया था। इसके बाद 31 अक्टूबर को दो बार 3.1 व 3.5 तीव्रता का भूकंप आया था। 12 दिन पहले 9 नवंबर को 3.4 तीव्रता का भूकंप दर्ज हुआ था। पहले आए सभी भूकंप का केंद्र शहर से दूर ग्रामीण क्षेत्रों में था लेकिन रविवार को आए भूकंप का केंद्र नगरीय क्षेत्र में बताया गया है। इससे घरों में नुकसान की आशंका बढ़ गई है। भूकंप से दीवारें में गहरी दरारें आने के साथ ही घर कमजोर हो रहे हैं।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *