सीएम ने सराहा कोरोनो से लडने का भिण्डर मॉडल बोले- बडी चुनौती थी प्रवासियों को संभालना

भिण्‍ड से डॉ. रवि शर्मा

भिंड ,29 सितम्बर,अभीतक – कोविड-19 से लडने में भिण्‍ड मॉडल की मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तारीफ की। वीडियो कॉन्‍फ्रेंस में मुख्‍यमंत्री ने सीएमएचओ डॉ. अजीत मिश्रा ने पूछा,कोरोना काल में पत्‍नी ने कहा नही छोडो यह डॉक्‍टरी, कुछ और काम करो। जवाब में सीएमएचओ ने कहा, सर 6 माह से घर में अइसोलेट कर रहा हूं। घर में पत्‍नी के अलावा 87 वर्षीय ससुर है। कोरोना से लडने के दौरान उनके कमरे में भी नही जाता। कोरोना में काम करने के लिए मुख्‍यमंत्री ने सीएमएचओ से चुनौतियों के बारे में भी पूछा। टीम का सम्‍मान किया।

सीमा पर दुश्‍मन से लडकर जीत जाते है: वीडियो कॉन्‍फ्रेंस में मुख्‍यमंत्री चौहान ने कहा, अजीत जी सहित सभी कोरोना योध्‍दाओं का स्‍वागत। अजीत जी, भिण्‍ड में तो जबरदस्‍त क्षमता है। लोग साधारण तौर पर डरते भी नही है। कोरोना क्‍या कर लेगा। हम तो जब सीमाओ पर दुश्‍मन से लडकर जीत लेते हैं। कोरोना क्‍या बिगाड लेगा। मुख्‍यमंत्री ने पूछा ऐसी परिथितियो में आपके सामने कौन-कौन सी चुनौती आई।

मुख्‍यमंत्री के सवाल, सीएमएचओ के जवाब मुख्‍यमंत्री: चुनौती क्‍या आई। टेस्‍ट के समय, घर- घर टेस्‍ट करवाए। ऐसे समय क्‍या महसूस हुआ आपको। सीएमएचओ: माइग्रेशन शुरू हुआ तो 1 लाख प्रवासी आए। सीमावर्ती नांको पर मेडिकल टीमे तैनात कर दी। रात-दिन एककर काम किया। पंचायत, ब्‍लॉक लेवल पर क्‍वारंटइन सेंटर बनाकर प्रवासी लोगों को आइसोलेट किया। मुख्‍यमंत्री: काम करते समय इाप और साथ में बैठे अमले को दो चिंता रही होगी। एक, मरीज का ढंग से इलाज। दूसरा, स्‍वयं के बचाव की व्‍यवस्‍था कि खुद पॉजिटिव हो जाएं। स्‍वजन की चिंता का समाधान कैसे किया   सीएमएचओ: मैने स्‍वयं कोविड-19 के मरीजों को वार्डो में जाकर चेक किया। कोविड वार्डो में सुबह-शाम दोनो टाइम राउंड लिया। इससे हमारे जिले के लोगो में संस्‍था के प्रति विश्‍वास जागा। देर रात तक हमारे जो कर्मचारी काम कर रहे थे उनके साथ मै स्‍वयं बैठकर काम करता। इससे उनका मनोबल बढा रहा।  मुख्‍यमंत्री: आपके घर में कौन-कौन है, सीएमएचओ: घर पत्‍नी और ससुर है। ससुर की उम्र 87 वर्ष है। मुख्‍यमंत्री: घर में आपसे पूछा नही, कितने मरीज देखकर आए हो। अब हमारा क्‍या होगा  कोरोना में क्‍यो डॉक्‍टर बने हो छोडो और करो  सर 6 माह में घर में आइसोलेट होकर रह रहा हूं। क्‍योंकि मेरे ससुर हाईरिस्‍क में हैं। उनके कमरे में तो गया ही नही हू्ं।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *