सीमा प्रबंधन में पुलिस की बड़ी भूमिका : डोभाल

हैदराबाद, 12 नवंबर ; राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने शुक्रवार को कहा कि कानून और व्यवस्था बनाए रखने के अलावा, पाकिस्तान, चीन, म्यांमा और बांग्लादेश जैसे देशों से लगती भारत की 15,000 किलोमीटर से अधिक लंबी सीमा के प्रबंधन में भी पुलिस बलों की बड़ी भूमिका है।

सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी में भारतीय पुलिस सेवा के परिवीक्षाधीन अधिकारियों के 73वें बैच की पासिंग आउट परेड को संबोधित कर रहे डोभाल ने कहा कि भारत की संप्रभुता तटीय क्षेत्रों से लेकर सीमावर्ती क्षेत्रों तक अंतिम पुलिस थाने के अधिकार क्षेत्र तक जाती है।

डोभाल के बयान से एक दिन पहले ही पंजाब विधानसभा ने सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का अधिकार क्षेत्र बढ़ाने वाली केंद्र की अधिसूचना के खिलाफ प्रस्ताव पारित करते हुए कहा कि यह राज्य पुलिस का अपमान है और इसे वापस लिया जाना चाहिए।

केंद्र सरकार ने पिछले महीने बीएसएफ अधिनियम में संशोधन कर उसे पंजाब, पश्चिम बंगाल तथा असम में अंतरराष्ट्रीय सीमा से 50 किलोमीटर के दायरे में तलाशी लेने, जब्ती और गिरफ्तारी का अधिकार प्रदान किया। इस समय यह दायरा 15 किलोमीटर तक है।

डोभाल ने कहा कि भारत के 32 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्र के हर हिस्से में कानून व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी पुलिस बलों की है। उन्होंने कहा, ‘‘सिर्फ वही पुलिसिंग ही नहीं है जिसमें आप लोगों को अच्छी तरह से प्रशिक्षित किया गया है बल्कि इसका भी विस्तार होगा। आप इस देश के सीमा प्रबंधन के लिए भी जिम्मेदार होंगे। पंद्रह हजार किलोमीटर की सीमा है, जिसमें से ज्यादातर हिस्से की अपनी ही तरह की समस्याएं हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान के साथ, चीन या म्यांमा या बांग्लादेश के साथ एक सीमा है। हमारे पास विभिन्न प्रकार के सुरक्षा संबंधी मुद्दे हैं जिन्हें इन सीमाओं की निगरानी कर रहे केंद्रीय पुलिस संगठन और पुलिस के जवान देखते हैं।’’