सोमवार रात की हिसंा के बाद दूसरे पक्ष नेें 24 को नामजद करते हुये शिकायती आवेदन दिया।

 मयंक शर्मा
खंडवा १७ नवंबर ;अभी तक;  सोमवार रात नगर के कंजर मोहल्ले में दो समुदायों के बीच अतिशबाजी
का विवाद सांप्रदायिक उपद्रव में बदल गया। उपद्रवियों को खड़ेदने के बाद
संवदेनशील इलाकों में पुलिस फोर्स तैनात है। समूचे घटनाक्रम को लेकर
महादेवगढ मंदिर संगठन के नेता एसपी से मिले तो शहरकाजी ने डीआईजी से भेंट
कर निष्पक्ष कार्रवाई की मांग की है।
               बीती मंगलवार रात छुटपट घटनााओं के साथ शतिपूर्ण रही। तनाव पूर्ण माहौल
को देखते हुये दोनो समुदाय के लोग दहशत में है और रात में अकेले एक दूसरे
के बाहुल्य क्षेत्र में जाने से परहेज कर रहे है। माारपीट की छुटपुट
घटनाये पुलिस रोजामचे का हिस्सा होने से पुलिस ने इंकार किया है।
              सिटी कोतवााली थाना प्रभारी बलदेवसिंह बिसेन ने  बताया कि एक पक्ष की ओर
से मंगलवार को तीन प्राथमिकी दर्ज कराई गयी इसमें 7 लोग नामजद किये गये
तो 30-40 अज्ञात है। वहीं बुधवार को शिकायती आवेदन लेकर दूसरा पक्ष मैदान
में आया।मुस्लिम पक्ष ने थाना कोतवाली में आवेदन देकर 24 लोगों पर
कार्रवाई की मांग की है। बबलू, शुभम, कुणाल, कपिल, सौरभ, योगेश, शिवा,
बंटी, भूरा, बोकीबाई, सपनाबाई, शैलेंद्र, दीपू सोनकर, गब्बू सोनकर, भूरु
सोनकर, मोहित, राजा, अभय, अंकुश, गोलू, दुर्गेश समेत अन्य लोगों के नाम
दिए है।
              बुधवार अपरान्ह बाद अपनी मांग के समर्थन  में  हिंदू संगठनो ने एक रैली
निकाली। रेली का नेतृत्व अशोक पालीवाल ने किया। उन्होने  उपद्रवियों के
खिलाफ ‘उज्जैन फार्मूला’ पर कार्रवाही की मांग की। नगर निगम तिराहे से
कंट्रोल रुम तक रैली निकली। कंट्रोल रुम पहुंचकर  ज्ञापन दिया गया।  मांग
की कि, दिसम्बर 2020 मे हुये साम्प्रदायिक हिंसा के बाद वहां उज्जैन में
प्रशासन ने  पथराव व हिंसा के आरोपियो पर  रासुका आरोपति कर उन्हे जेल
भेज दिया था। वहीं सभी पत्थरबाजों के मकानों को जमींदोज कर दिये थे।
हिन्दू संगठनो ने यही उज्जेन फर्मुले के समर्थन मे रैली निकाली।
           महादेवगढ़ मंदिर के नेता माधव झा ने कहा , शहर में उपद्रव के बाद भी प्रशासर्न
एक्शन की भूमिका में नजर नहीं आता है।पथराव से पुलिसकर्मियों को भी चोंटे
आई है, प्रशासनिक वाहनों में तोड़फोड़ की गई। हिीन्दू संगठनो ने इस श्लोगन
के साथ  समर्थको को रैली में आमत्रित किया कि– हर हिन्दू को 4 बजे नगर निगम पे आना है फिर मत बोलना हिन्दू मार खा रहा
है । घर मे बैठने से बाते करने से स्वराज नही आएगा ताकत दिखाना है कि हम
किसी के रास्ते नही जाते और जो हमारे रास्ते आता है उसको छोड़ते नही है
               उल्लेखनीय है कि सोमवार देर रात दो समुदायों में हिंसक झड़प की शुरुआत
कंजर मोहल्ले से पटाखे फोडने के विवाद से शुरु हुई। इस दिन देव दीवाली
थी। यहां देवस्थान और मस्जिद आमने-सामने है, बीच में रास्ता हैं। देवउठनी
ग्यारस पर बच्चों ने पटाखें फोड़कर देवस्थल पर दीये जला रखे थे। यहां
हिंदू-मुस्लिम परिवार में पुराना विवाद पटाखा विवाद उपजने से ताजा हो गया
ओर विवाद पटाखा फोडने पर सहमति व एतराज कारक बना। विवाद की खबर पाकर
कोतवाली से पुलिस टीम आई और समझाकर विवाद को विराम दिलाकर लौट गयी।
तभी  एक पक्ष के लोंग महती संख्या में पास के ही इलाके भगतसिंह चैक पर
जुंटे  जिनके पथराव का निशाना हिन्दू संगठन नेता आकाश ठाकुर का विवाह
रिसेप्शन पंडाल बना।भगतसिंह चैक पर वाहनों में तोड़फोड़ कर आगजनी की। कंजरे
मोहल्ले में घुसकर वाहनों में तोड़फोड़ की।पुलिस को हालात काबू में करने के लिये स्वयं एसपी विवेकसिंह को मैदान में
कूंदना पडा। लाठी चार्ज के साथ अश्रुगैसे के गोले दागे जिससे उपद्रवी भाग
खडे हुये। और हालात काबू में आये।
                एसपी विवेकसिंहइ ने बताया कि पथराव के बाद वहां हालात काबू मे है। दोनो
ही इलाकों मे पुलिस फोर्स तैनात कर दिया है जो 50 घण्टे बाद भी बुधवार
शाम तक यथावत तैनात है। घटना बाद मंगलवार सुबह से  पुलिस टीमें
उपद्रवियों की सर्चिंग में लगी हुई है। पहले दिन की एफआईआर के नामजद करीब
7 सहित अब तक 12 आरोपियों को पुलिस ने राउंडअप कर लिया है। आरोपियों की
गिरफ्तारी को लेकर कंजर मोहल्ला के महिला-पुरुषों ने कलेक्टर कार्यालय
परं धरना भी दिया।
                विधायक देवेंद्र वर्मा, व हिन्दू नेता  अशोक पालीवाल ने एसपी  विवेकसिंह
से मुलाकात की। एसपी ने ं कहा कि सांप्रदायिक मामले में पुलिस लगातार
कार्रवाई कर रही है। पथराव करने वाले लोगों की पहचान की जा रही है। कई
आरोपी भूमिगत या फरार है।
उन्होने बताया कि दूसरे पक्ष ने शहर काजी के नेतृत्व में पुलिस कंट्रोल
रुम पर खरगोन डीआईजी तिलकसिंह से चर्चा की। शहरकाजी निसार अली ने उीआईजी
से कहा कि  पुलिस एकपक्षीय कार्रवाई कर रही है। मामले की निष्पक्ष जांच
होना चाहिए।