सोयाबीन- तुअर, उड़द फसलों के लिए ऋणमान में तीन हजार रूपए प्रति  हेक्टेयर बढ़ोत्तरी

मयंक भार्गव

बैतूल ५ नवंबर ;अभी तक; कलेक्टर राकेश सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को आयोजित जिला  स्तरीय तकनीकि समूह की बैठक में खरीफ 2021, रबी 2021-22 सीजन फ सलों के साथ ही फल, फूल, सब्जी, मसालों, फसलों  एवं पशुपालन, मत्स्य  पालन के लिए ऋणमान का निर्धारण किया गया। जिला स्तरीय तकनीकि  समूह की बैठक में सोयाबीन, तुअर, उड़द फसलों के ऋणमान में तीन हजार  रूपए प्रति हेक्टेयर की बढ़ोत्तरी प्रस्तावित की गई। जबकि रबी सीजन की  गेहूं, चना, गन्ना, अलसी, सरसों तथा खरीफ सीजन की मूंगफल्ली, सूरजमुखी  फसलों का ऋणमान वर्तमान में प्रचलित ऋणमान के यथावत रखा गया है।  जिला स्तरीय तकनीकि समूह द्वारा प्रस्तावित ऋणमान स्वीकृति के लिए स्टेट  लैबल बैंकर्स कमेटी को भेजा जायेगा। एसएलबीसी द्वारा अंतिम मोहर लगाने  के बाद वर्ष 2021-22 के लिए ऋणमान लागू किया जायेगा।
विभिन्न फसलों के लिए ऋणमान किया प्रस्तावित
बुधवार को कलेक्टर राकेश सिंह की अध्यक्षता में आयोजित जिला स्तरीय   तकनीकि समूह की बैठक में खरीफ 2021 एवं रबी 2021-22 के लिए फ सल ऋणमान, पशुपालन एवं मत्स्य पालन ऋणमान का निर्धारण किया  गया। बैठक में बैतूल जिले की प्रमुख खरीफ फसलें सोयाबीन, धान, मूंगफ ल्ली, मक्का, ज्वार, तुअर, उड़द, मूंग, सूरजमुखी, रबी फसलें सिंचित- असि ंचित गेहूं, चना, गन्ना, सरसों, मसूर सहित फल-फूल, सब्जी, मसाला फसलों  के ऋणमान उन्नत कृषकों, कृषि विभाग, उद्यानिकी विभाग, पशुपालन  विभाग, मत्स्य पालन विभाग, कृषि विज्ञान केन्द्र एवं बैंकर्स कोआर्डिनेटर से  विचार उपरांत ऋणमान का निर्धारण प्रस्तावित किया गया।
जिला स्तरीय तकनीकि समूह द्वारा सोयाबीन तुअर, उड़द फसलों के लिए  तीन-तीन हजार रूपए प्रति हेक्टेयर, ज्वार, कोदो कुटकी, रामतिल, तिल, फ सलों के लिए दो-दो हजार प्रति हेक्टेयर तथा सिंचित-असिंचित धान, मक्का,  कपास, मूंग फसलों के लिए एक-एक हजार रूपए प्रति हेक्टेयर ऋणमान में  बढ़ोत्तरी प्रस्तावित की है। जबकि मूंगफल्ली, सूरजमुखी, सिंचित-असिंचित गेहू ं, चना, गन्ना, अलसी एवं सरसों फसलों का ऋणमान वर्तमान में प्रचलित  ऋणमान के यथावत रखा गया है।
जिला स्तरीय तकनीकि समूह की बैठक में नाबार्ड के जिला प्रबंधक खालिद  अंसारी, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक बैतूल के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  आलोक यादव लीड बैंक प्रबंधक सौम्य नवित, उपसंचालक कृषि  केपी  भगत कृषि विज्ञान केन्द्र बैतूलबाजार के वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक आरडी बारपेटे,  भारतीय किसान संघ के प्रतिनिधि उन्नत कृषक दीपक कपूर पुरूषोत्तम सरले  सहित बैंक कॉर्डिनेटर उद्यानिकी विभाग के अधिकारी एवं उन्नत कृषक मौजूद  थे।
काजू फसल के लिए 70,200 रूपए प्रति हेक्टेयर ऋणमान
जिला स्तरीय तकनीकि समूह की बैठक में जिले में पहली बार काजू फसल  के लिए ऋणमान प्रस्तावित किया है। काजू फसल के लिए 70 हजार दो सौ  रूपए प्रति हेक्टेयर ऋण मान प्रस्तावित किया गया है। जिला स्तरीय तकनीकि  समूह द्वारा काजू फसल के लिए प्रति हेक्टेयर प्रस्तावित साख सीमा में  49140 रूपए नगद ऋण एवं 21060 रूपए वस्तु ऋण का प्रावधान किया  गया है। जबकि संतरा, अमरूद, पपीता, मौसम्बी, नीबू, केला, अनार, तरबूज,  आम का ऋण मान वर्तमान में प्रचलित ऋणमान के यथावत रखा गया है। आ ंवला फसल के लिए 19 हजार 880 प्रति हेक्टेयर ऋणमान में कमी प्रस्तावित  की है।
सब्जी फसलों के ऋणमान में कमी प्रस्तावित
जिला स्तरीय तकनीकि समूह की बैठक में सब्जी फसलों के ऋणमान में क टौती करना प्रस्तावित किया है। बैठक में टमाटर फसल के ऋणमान 19400  रूपए, फूलगोभी, पत्तागोभी में 6400 रूपए, भिण्डी में दो हजार, मटर/ सेमफ ल्ली में 1200 रूपए तथा मिर्च (संकर) में 8 हजार रूपए प्रति हेक्टेयर  ऋणमान में कटौती प्रस्तावित की गई है। जबकि आलू, प्याज सब्जी फसलों,  लहसुन, अदरक, हल्दी, मसाला फसलों एवं गेंदा, गुलाब, सेवंती, मोंगरा,  पुष्प फसलों का ऋणमान वर्तमान प्रचलित ऋणमान के मुताबिक यथावत  रखा गया है।
स्वीकृति के लिए एसएलबीसी को भेजेंगे- सीईओ
जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक मर्यादित बैतूल के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने  बताया कि जिला स्तरीय तकनीकि समूह की बैठक में खरीफ 2021 रबी  2021-22 फसलों के साथ ही फल-फूल, मसालों सब्जी फसलों और  पशुपालन, मत्स्य पालन के लिए ऋणमान का निर्धारण किया गया है। उन्होंने  बताया कि जिला स्तरीय तकनीकि समूह की बैठक में प्रस्तावित ऋणमान  स्वीकृति के लिए स्टेट लेबल बैकर्स कमेटी को भेजा जा रहा है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *