स्कूल प्राचार्यो को हाईकोर्ट से राहत, कम परीक्षा परिणाम आने रोकी गई वेतनवृद्धियों को दी गई थी चुनौती

सिद्धार्थ पांडेय

जबलपुर ७ अक्टूबर ;अभी तक; शासन की मंशानुरूप परीक्षा परिणाम न आने पर स्कूल प्राचार्यो के खिलाफ वेतन वृद्धि रोकने की गई कार्रवाई को चुनौती देने वाले मामले का हाईकोर्ट ने पटाक्षेप कर दिया। जस्टिस संजय द्धिवेदी की एकलपीठ ने सीधी जिले के तीन प्राचार्यो के खिलाफ जारी आदेश को विधि सम्मत न पाते हुए स्वतंत्रता दी है कि अनावेदक उचित कारण सहित विधि सम्मत तरीक से नये आदेश जारी कर सकते है।

यह मामले सीधी जिले के सिहाबल ब्लॉक के शासकीय स्कूल के प्राचार्य चंद्रकुमार शुक्ला सहित दो अन्य की ओर से दायर किये गये थे। जिसमें कहा गया था कि स्कूल का परीक्षा परिणाम 62 फीसदी से कम आने पर स्कूल प्राचार्यो के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की गई थी। आवेदकों का कहना है उनके स्कूल का परिणाम निर्धारित से कम आने पर उनके खिलाफ दो वेतनवृद्धिया रोकने के आदेश दिये गये, जो कि अनुचित है। मामले में आवेदक की ओर से अधिवक्ता शक्ति सोनी ने पक्ष रखते हुए कहा पूर्व में ही ऐसे ही मामले में न्यायालय ने राहतकारी आदेश दिये है और बिना किसी ठोस कारण के उक्त आदेश देना, अनुचित है। सुनवाई पश्चात् न्यायालय ने अनावेदकों के खिलाफ जारी आदेश निरस्त कर नये सिरे से विधि सम्मत आदेश जारी करने की स्वतंत्रता देते हुए मामले का पटाक्षेप कर दिया।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *