स्कूल रहेंगे बंद पीएस, एमएस के बच्चें को घर पर नि:शुल्क मिलेगी किताबें

मयंक भार्गव

बैतूल २१ जून ;अभी तक;  कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिए शासन ने आगामी आदेश तक स्कूलों में अध्ययन -अध्यापन बंद रखने का निर्णय लिया है। परंतु कोरोना संक्रमण के दौर में बच्चों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़े रखने के लिए शासकीय प्रायमरी एवं मिडिल स्कूल के बच्चों को घर पर ही नि:शुल्क पाठ्यपुस्तकों का वितरण किया जाएगा जिसके लिए जिला शिक्षा केंद्र बैतूल ने जिले की शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं में अध्ययनरत लगभग 1 लाख 52 हजार 98 छात्र-छात्राओं के लिए 7 लाख 98 हजार पाठ्य पुस्तकों की डिमांड राज्य शिक्षा केंद्र को भेजी है। जिसमें 43 टाइटलों के पुस्तकें शामिल है। पाठ्यपुस्तक निगम द्वारा डिमांड के मुताबिक जनपद शिक्षा केंद्रों को पाठ्य पुस्तकें भेजना भी शुरू कर दिया है।

चार विकासखंडों में आई 2.43 लाख पुस्तकें

जिला शिक्षा केंद्र बैतूल के सहायक परियोजना समन्वयक (ईएण्डआर) विशाल भोपले ने बताया कि जिले के प्राथमिक एवं माध्यमिक स्कूलों में अध्ययनरत लगभग 1 लाख 52 हजार 980 विद्यार्थियों को नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकें वितरण के लिए 43 टाइटलों की 7 लाख 98 हजार 62 पुस्तकों डिमांड राज्य शिक्षा केंद्र को भेजी गई थी। उन्होंने बताया कि अभी तक बैतूल, भैंसदेही, भीमपुर एवं शाहपुर जनपद शिक्षा केंद्रों में 2 लाख 43 हजार 500 पुस्तकें आयी है। शीघ्र ही अन्य विकासखंडों में पुस्तकें आने की संभावना है।

पाठ्यपुस्तकों के साथ मिलेगी वर्क बुक

जिला शिक्षा केंद्र बैतूल के जिला परियोजना समन्वयक सुबोध शर्मा ने बताया कि शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं के विद्यार्थियों को पाठ्य पुस्तकों के साथ वर्क बुक भी प्रदान की जाएगी। उन्होंने बताया कि राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा 15 जून से 15 जुलाई तक प्राथमिक एवं माध्यमिक स्कूल के बच्चों के लिए आओ सीखे अभियान चलाया जा रहा है जिससे पालकों को भी मोटीवेट किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पाठ्यपुस्तक निगम द्वारा सीधे स्कूलों में नि:शुल्क पाठ्यपुस्तकों के साथ वर्क बुक भी भेजी जाएगी। प्राथमिक स्कूलों की वर्क बुक बहुरंगी एवं माध्यमिक स्कूलों की वर्क बुक ब्लैक एण्ड व्हाइट रहेगी।